हेलो दोस्तों हमें प्रश्न दिया हुआ है नीचे दिए गए प्रत्येक प्रवर्तन को ध्यानपूर्वक पढ़िए तथा कारण सहित उत्तर दीजिए कि इनमें से कौन सा सही है और कौन सा फिसलन का कारण क्या हो सकता है सत्य सत्य और असत्य बताएं पहला दे रहा है कि लूटने गति करते समय घर्षण बल उस दिशा में कार्यरत होता है जिस समय का निर्माण की गति करता है दूसरा 11 लूटने की गति करते समय संपर्क बिंदु की दार्शनिक चाल सोने होती है तीसरा कह रहा है लूटने गति करते समय समय पर बिंदु का दक्षिणेश्वर होता है चौथा 11 परिशुद्ध लोटनी गति के लिए घर्षण के विरुद्ध किया गया कार्य शुन्य होता है पांचवी पाठ में कह रहे हैं किसी पूर्णता करता नहीं था न समतल पर नीचे की ओर गति करते पहिए की गति फिसलन गति अर्थात लोटनी गति नहीं होगी यह बताने हैं एक-एक करके चलिए पहले छोटा सा इसके लिए चित्र बनाते हैं फिगर बनाते हैं फिर इसको समझते हैं ठीक है जैसा कि मैं

मोमो के कारण हुई 50 वर्षीय व्यक्ति की मौत

फिसलन का कारण क्या हो सकता है

नीचे दिए गए प्रत्येक प्रकथन को .

नीचे दिए गए प्रत्येक प्रकथन को ध्यानपूर्वक पढिये तथा कारण सहित उत्तर दीजिए कि इनमें से कौन-सा सत्य है और कौन –सा असत्य है? a. लोटनिक गति करते समय घर्षण बल उसी दिशा में कार्यरत होता है जिस दिशा में पिण्ड का द्रव्यमान-केंद्र गति करता है।
b. लोटनिक गति करते समय सम्पर्क बिंदु की तात्ष् णिक चाल शून्य होती है।
c. लोटनिक गति करते समय सम्पर्क बिंदु का तात्क्षणिक त्वरण शून्य होता है।
d. परिशुद्ध लोटनिक गति के लिए घर्षण के विरूद्ध किया गया कार्य शून्य होता है।
e. किसी पूर्णतः घर्षणरहित आनत समतल पर नीचे की ओर गति करते पहिए की गति फिसलन गति (लोटनिक गति नहीं) होगी।

Updated On: 27-06-2022

Solution : a. सत्यः जब वस्तु लुढ़कती है तो पृष्ठ के सम्पर्क वाले बिंदुओं का वेग द्रव्यमान केंद्र के वेग की विपरीत दिशा में होता है, चूंकि गति का विरोध करता है अतः घर्षण बल द्रव्यमान केंद्र की गति की दिशा में कार्य करेगा।
b. सत्यः परिशुद्ध लुढ़कन में वस्तु के निम्नतम बिंदु (पृष्ठ के सम्पर्क वाले बिंदु) का वेग शून्य होता है अतः पृष्ठ के सम्पर्क बिंदु की तात्क्षणिक चाल शून्य होती है।
c. असत्यः लुढ़कने की अवधि में पृष्ठ के सम्पर्क बिंदु के वेग की दिशा बदलती है अतः पृष्ठ के सम्पर्क बिंदु का तात्क्षणिक त्वरण शून्य नहीं होता है।
d. सत्यः परिशुद्ध लु्ढ़कन गति में घर्षण बल शून्य है अतः घर्षण के विरूद्ध कृत कार्य शून्य होता है।
e. सत्यः घर्षण बल के कारण ही लुढ़कन गति के लिए बल-आघूर्ण प्राप्त होता है । पहिया, भार के घटक `(Mg sin theta)` जो आनत समतल के अनुदिश है के कारण ही फिसलन गति प्रारम्भ करेगा।

बर्फ पर इतनी फिसलन क्यों होती है?

दो सदियों से अधिक के लिए, वैज्ञानिकों को यह बताने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था कि, वास्तव में बर्फ पर फिसलन क्यों होती है और इसपर स्केट्स इतनी अच्छी तरह से क्यों आगे बढ़ सकते हैं.

दो सदियों से अधिक के लिए, वैज्ञानिकों को यह बताने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था कि, वास्तव में बर्फ पर फिसलन क्यों होती है और इसपर स्केट्स इतनी अच्छी तरह से क्यों आगे बढ़ सकते हैं.

दो सदियों से अधिक के लिए, वैज्ञानिकों को यह बताने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था कि, वास्तव में बर्फ पर फिसलन क्यों होती . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : February 20, 2018, 13:10 IST

विंटर ओलंपिक में आइस स्केटिंग का खेल केवल इस तथ्य पर निर्भर करता है कि बर्फ पर फिसलन होती है. बर्फ पर स्पीडस्केटर 35 मील प्रति घंटे तक पहुंच सकता फिसलन का कारण क्या हो सकता है है, स्केटर गोल घूम सकते हैं और 40-पाउंड कर्लिंग स्टोन ग्लाइड कर सकते हैं क्योकि बर्फ का घर्षण कम होता है.

लेकिन पिछली दो सदियों से अधिक के लिए, वैज्ञानिकों को यह फिसलन का कारण क्या हो सकता है बताने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा था कि, वास्तव में बर्फ पर फिसलन क्यों होती है और इसपर स्केट्स इतनी अच्छी तरह से क्यों आगे बढ़ सकते हैं.

लेकिन अब ऐसा नहीं है. बर्फ पर फिसलन का रहस्य सामने आ गया है.


बर्फ होती क्या है?आप जानते हैं कि बर्फ ठोस पानी है. लेकिन क्या होता है जब यह ठोस हो जाता है और आकर्षक लगने लगता है. ब्रह्मांड में अधिकतर पदार्थों के लिए ठोस तरल से अधिक घना होता है. जब एक पदार्थ ठोस रूप से ठंडा हो जाता है, तो उसके अणु बहुत पास पास बंधे होते हैं. लेकिन फिसलन का कारण क्या हो सकता है बर्फ अलग है. जब यह 32 डिग्री फेरेनहाइट से कम हो जाती है, तो पानी के अणुओं के बीच एक विशेष हाइड्रोजन बांड एक दूसरे के पानी के अणुओं के बीच खाली स्थान को भर मजबूर करते हैं.

कोरोना वायरस : बढ़ते संक्रमण के खतरे से तेल में फिसलन, बाजार में चिंता बढ़ी

अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी संगठन रॉयटर (Reuters) की टोक्यो (TOKYO) से जारी रिपोर्ट में चिंता जताई गई है कि, महामारी को रोकने के फिसलन का कारण क्या हो सकता है लिए मजबूत उपायों से आर्थिक गतिविधि प्रभावित होगी, साथ ही क्रूड सरीखे कच्चे माल जैसी वस्तुओं की मांग में भी इजाफा होगा।

सोमवार को कीमत -

भारत में सोमवार को तेल की कीमत फिसलन का कारण क्या हो सकता है में कमी देखी गई। जानकारों ने इसकी वजह भारत में कोरोना वायरस संक्रमण का बढ़ता खतरा बताया।

ब्रेंट क्रूड में इतनी गिरावट -

पिछले हफ्ते 6% की बढ़ोतरी के बाद ब्रेंट क्रूड 17 सेंट्स या 0.3% की गिरावट के साथ 66.60 डॉलर प्रति बैरल पर था।

डब्ल्यूटीआई की स्थिति -

वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई/WTI) अमेरिकी तेल (U.S. oil)10 सेंट या 0.2% नीचे 63.03 डॉलर प्रति बैरल था। पिछले हफ्ते इसने 6.4% की बढ़त हासिल की थी।

एम्स ने दी मोमो को देखभाल के साथ निगलने की सलाह

मोमोज को बिना चबाए निगलना खतरनाक हो सकता है. यही कारण है कि मोमोज को लेकर एम्स ने हेल्थ वार्निंग जारी कर दी है. यह इसलिए किया क्योंकि मोमोज एक व्यक्ति के मौत का कारण बन गया. एक शख्स की मौत के कारणों का पता करने पर पाया गया कि उसकी मौत मोमोज के कारण शख्स का दम घुटने से हुई है.

एम्स ने हाल ही में फोरेंसिक इमेजिंग जर्नल में एक रिपोर्ट पब्लिश की है, जिसमें एक व्यक्ति के मोमो से दम घुटने से मरने के केस को लेकर बताया गया है, जिस व्यक्ति की मौत हुई उसकी उम्र महज 50 साल थी.

विंडपाइप में मोमो फंसने से हुई मौत

बताया जा रहा है कि पोस्टमॉर्टम के दौरान पता चला कि मोमो विंडपाइप की ओपनिंग में फंस गया था. यही कारण है कि डॉक्टरों ने इसे लेकर हेल्थ वार्निंग जारी कर दी है. इस मामले के सामने आने के बाद विशेषज्ञों ने 'मोमो को देखभाल के साथ निगलने' की चेतावनी जारी की.

रेटिंग: 4.88
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 313