सावधि जमा खाता या FD account में एक ख़ास अवधि के लिए एक विशेष राशि रखी जाती है. यहाँ एक बार ही पैसा जमा कर सकते हैं और एक बार ही निकाल सकते हैं. RD अकाउंट की ही तरह इस खाते से भी आप समय से पहले पैसे नहीं निकाल सकते. तय की गई अवधि के पहले पैसे निकालने से आपको बैंक को penalty देनी पड़ती है (हर बैंक द्वारा तय की गयी penalty amount अलग-अलग होती है) और अकाउंट को हमेशा के लिए बंद कर दिया जाता है. फिक्स्ड डिपाजिट में उपभोक्ता को हाई इंटरेस्ट रेट दिया जाता है. इंटरेस्ट रेट जमा पैसे (deposited money) और जमा की अवधि (deposit period) के आधार पर तय की जाती है जो अधिकतम 10 साल तक लिए होती है.

Current और Saving Account क्या है

Current और Saving Account क्या है – चालू खाता और बचत खाता की जानकारी हिंदी में

आज के समय में पैसे कमाना बहुत ही मुश्किल काम है इसलिए हर व्यक्ति अपने भविष्य के लिए थोड़ी बहुत सेविंग करता है क्यूंकि आने वाले समय का कुछ पता नहीं होता है कब कैसी परिस्थिति हमारे सामने आ जाए। अपने पैसे की सेविंग करने के लिए हम सभी लोग ज़्यादातर बैंको में ही पैसे जमा करते हैं। इसलिए जब हम बैंक अकाउंट खुलवाने जाते हैं तो हमारे सामने दो ऑप्शन आते हैं Current और Saving Account। ज़्यादातर लोगो को बैंक से रिलेटेड जानकारी नहीं होती हैं तो चलिए फिर आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से Current और Saving Account से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान करें। यदि आप भी अपना Current और Saving Account खुलवाना चाहते हैं और आपको इसके बारे में जानकारी नहीं है तो हमारे इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

Current And Saving Account

करंट अकाउंट का उपयोग ज्यादातर कारोबारी फर्म कंपनियां सार्वजनिक उद्यमों एवं बिजनेसमैन आदि करते हैं क्योंकि इन लोगों को दिन भर में कई बार बैंक से लेनदेन करने की आवश्यकता पड़ती है। इस अकाउंट के माध्यम से आप प्रतिदिन कितना भी लेनदेन कर सकते हैं। इस अकाउंट में आपको कोई ब्याज नहीं दिया जाता। ज़्यादातर लोग प्रतिदिन हजारों लेन देन फ्री में करवाने के लिए ही यह खाता खुलवाते हैं। इस अकाउंट से कारोबारी अपने टर्नओवर मुनाफे आदि से ओवरड्राफ्ट भी कर सकते हैं क्योंकि ओवरड्राफ्ट इसका सबसे इंपॉर्टेंट पॉइंट है। इस अकाउंट में आप जितनी बार चाहे रकम निकाल और जमा कर सकते हैं। वैसे तो चालू खाता कोई भी साधारण व्यक्ति खोल सकता है लेकिन इसके अलावा

किसी प्रमुख व्यक्ति सिंगल अथवा जॉइंट रूप में , सोशल प्रोप्राइटरी , सिंगल फर्म , पार्टनरशिप फर्म , हिंदू अन डिवाइडेड फैमिली , लिमिटेड कंपनी , क्लब , सोसायटी , ट्रस्ट , एग्जीक्यूटिव , एडमिनिस्ट्रेटर एवं अन्य सरकारी अथवा अर्ध सरकारी संस्थाओं , स्थानीय प्राधिकरण के द्वारा चालू खाता खुलवाया जा सकता है।

SBI में करंट अकाउंट खोलने पर मिलते हैं ये बड़े फायदे

  • Gagan Patil
  • Publish Date - September 6, 2021 / 11:47 AM IST

SBI में करंट अकाउंट खोलने पर मिलते हैं ये बड़े फायदे

बैंक ने कहा है कि PNB के टोल-फ्री नंबर 1800-180-2222 पर कॉल कर के नई चेकबुक से जुड़ी किसी भी तरह की समस्याओं का निवारण पाया जा सकता है

SBI Current Account: करंट अकाउंट खोलने की योजना बना रहे हैं, तो देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) आपको इस पर कई तरह की सुविधाएं मुहैया कराता है. एसबीआई करंट अकाउंट (SBI Current Account) छोटे व्यवसायियों, पेशेवरों, व्यापारियों के लिए उपयुक्त है, जो समस्त सुविधाओं सहित करंट अकाउंट काम लागत पर चाहते हैं.एसबीआई करंट अकाउंट में हर महीने मुफ्त 5 लाख रुपये जमा करने की सुविधा मिलती है. एसबीआई के करंट अकाउंट में ग्राहकों को हर महीने मिनिमम बैलेंस यानी मंथली एवरेज बैलेंस बनाए रखना होता है. करंट अकाउंट में 5,000 रुपये बैलेंस रखना होता है. एसबीआई में हर वह व्यक्ति करेंट अकाउंट ओपन कर सकता है जिसके पास वैलिड केवाईसी है.

ये मिलते हैं फायदे

-इसमें पहला 50 चेक की बुक फ्री में मिलती है.
-मोबाइल बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग, पहले साल फ्री एटीएम कार्ड भी दिए जाते हैं.
-बैंक में रेगुलर करेंट अकाउंट में हर महीने 5 लाख करंट अकाउंट क्या होता है रुपये तक नकद फ्री में जमा कर सकते हैं.
-एक ब्रांच से दूसरे ब्रांच में पैसे फ्री में ट्रांसफर कर सकते हैं.
-कस्टमर्स के लिए मैक्सिमम बैलेंस की कोई लिमिट नहीं होती है. नॉमिनेशन की सुविधा है.

एसबीआई में खाता खुलवाने के लिए बैंक की शाखा जाने की जरूरत नहीं है. आप घर बैठे अकाउंट खुलवा सकते हैं. यह काम वीडियो कॉल से हो जाएगा. SBI ने अपने मोबाइल बैंकिंग ऐप- YONO पर वीडियो KYC के जरिये अकाउंट खोलने की सुविधा शुरू की है.

इस सुविधा के जरिये ग्राहक बिना ब्रांच गए स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) में अपना खाता खुलवा सकेंगे. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और फेशियल रिकॉग्निशन टेक्नोलॉजी द्वारा संचालित यह डिजिटल पहल संपर्क रहित और पेपरलेस प्रॉसेस है.

ये है प्रोसेस

इस नई सुविधा का लाभ उठाने के लिए आपको केवल योनो ऐप (YONO App) डाउनलोड करना होगा. एंड्रॉयड मोबाइल यूजर्स इसे गूगल प्ले स्टोर से और आईफोन यूजर्स एप्पल स्टोर से इसे डाउनलोड कर सकते हैं. अब इसे ओपन करें. ‘New to SBI’ पर क्लिक करें और ‘Insta Plus Savings Account’ चुनें.

ऐप में अपना आधार विवरण दर्ज करें और आधार वेरिफिकेशन पूरा होने के बाद आपको अपना व्यक्तिगत विवरण यानी नाम, पता, मोबाइल नंबर वगैरह डालना होगा.

केवाईसी प्रक्रिया (KYC Process) को पूरा करने के लिए आपको वीडियो कॉल शेड्यूल करना होगा. वीडियो केवाईसी (Video KYC) के सफल होने पर आपका अकाउंट आसानी से खुल जाएगा.

Types of Bank Accounts in Hindi

banks_hindi

आज हम बैंक में खातों के कितने प्रकार (types of accounts in bank) होते हैं, उसके विषय में चर्चा करेंगे.

बैंक के खाते चार प्रकार (four types) के होते हैं:-

1. चालू खाता – Current Account

चालू खाता मुख्य रूप से उद्द्यमी, फर्म, कम्पनी आदि के लिए होता है. जिनके अकाउंट में पैसा का फ्लो बहुत होता है…बहुत से मतलब…कि लाखों रुपये उनके अकाउंट में आते हैं और निकाल भी लिए जाते हैं….तो ऐसे लोग चालू खाता में अपने पैसे रखते हैं. ऐसे अमीर लोगों या फर्म को इन्वेस्टमेंट या अपने पैसे में इंटरेस्ट (interest) मिलने में कोई इंटरेस्ट नहीं रहता. चालू खाता की खूबी यह है कि इसमें deposit (जमा करने) या withdrawal (पैसे निकालने) की कोई सीमा नहीं है. चालू खाते में धारक को इंटरेस्ट करंट अकाउंट क्या होता है नहीं मिलता. हाँ, बैंक उनसे सर्विस चार्ज जरुर लेती है.

नाम से ही स्पस्ट है कि सेविंग अकाउंट सेविंग करने के लिए बनी है. हम-आप जैसे लोग चाहते हैं कि हमें हमारे जमे पैसे पर सूद (interest) मिले और कम-से-कम अपने अकाउंट से पैसे निकाले. जितना जमा उतना अच्छा. कोई भी व्यक्ति, चाहे वो किसी कंपनी में काम करता हो, सरकारी नौकर हो, पेन्शनर हो, छात्र हो….वह सेविंग अकाउंट में अपना अकाउंट खोल सकता है. जैसा मैंने बताया कि सेविंग अकाउंट में धारक को जमे पैसे पर इंटरेस्ट भी मिलता है. बचत खाता के धारक कभी भी अपने जमा धन को बैंक से निकाल सकते हैं और डाल सकते हैं. पैसे जमा करने की संख्या में restriction तो नहीं पर पैसे बाहर निकालने की संख्या में कुछ restrictions जरुर हैं. जैसे आप Rs. 50 से कम पैसे नहीं निकाल सकते या ATM से ६ महीने के अन्दर 30 से ज्यादा बार पैसे नहीं निकाल सकते (this policy changes time to time by banks). चालू खाते की तरह आप कभी भी, कहीं भी, जितना भी….पैसे नहीं निकाल सकते. अधिकांश बैंक अपने ग्राहक को अपने अकाउंट में न्यूनतम राशि बनाए रखने के लिए बाध्य करती है.

3. आवर्ती जमा खाता- Recurring Deposit Account

आवर्ती जमा खाता या Recurring Deposit Account या RD account में वे लोग खाता खोलते हैं जो एक निश्चित राशि नियमित रूप से जमा करना चाहते हैं जिससे कि उन्हें अधिक ऊँची दर पर सूद/ब्याज/इंटरेस्ट मिले. RD अकाउंट में एक ख़ास राशि एक तय अवधि के करंट अकाउंट क्या होता है लिए हर महीने जमा की जाती है और तय की गयी अवधि के समाप्त हो जाने पर सूद के साथ कुल राशि का भुगतान कर दिया जाता है. जमा करने की न्यूनतम अवधि 1 साल और अधिकतम 10 साल की होती है. सूद की दर जमा पैसे और जमा की अवधि के हिसाब से अलग-अलग प्लान में अलग-अलग होती है. जैसे आप 10 हज़ार हर महीने जमा कर रहे हैं, तो आपको ज्यादा इंटरेस्ट मिलेगा….किसकी तुलना में? जो केवल 4 हज़ार हर महीने जमा कर रहा है उसे कम इंटरेस्ट मिलेगा. वहीं आप अधिक अवधि करंट अकाउंट क्या होता है के लिए पैसे जमा करने वाले हैं तो आपको अधिक इंटरेस्ट मिलेगा और कम अवधि के लिए कम इंटरेस्ट. RD अकाउंट में समय से पहले निकासी (पैसा निकालने) की सुविधा नहीं है. वैसे, बैंक चाहे तो maturity (खाता की अवधि पूरा होने) के पहले उसे बंद करने की अनुमति दे सकता है. आवर्ती जमा खाता में single या joint account खोला जा सकता है.

कितनी होती ब्याज दर

बचत खाते और चालू खाते पर पैसे ब्याज का नियम बहुत अलग है। बचत खाते में अलग-अलग बैंक कम-ज्यादा राशि पर विभिन्न ब्याज दरों की पेशकश करते हैं। इस समय बचत खाते पर मिलने वाली ब्याज दरें काफी कम हैं। क्योंकि आरबीआई की तरफ से दरें कम करने के चलते बैंकों ने लोन दरें घटाने के साथ ही एफडी और बचत खाते की ब्याज दरें भी घटाई हैं। मगर फिर भी इस खाते पर कुछ न कुछ ब्याज मिलता ही है। वहीं चालू खाते पर किसी तरह का कोई ब्याज नहीं मिलता।

टैक्स का नियम

टैक्स का नियम

टैक्स बहुत अहम मामला है। बचत खाते पर आपको जो भी ब्याज मिलता है उस पर टैक्स लगता है। पर चालू खाते पर न तो ब्याज मिलता है और न ही ये टैक्स के दायरे में आता है। वहीं मिनिमम बैलेंस न रखने पर आपसे बचत खाते पर चार्ज लिया जाता है। इसके अलावा कुछ और सीमित चार्ज होते हैं। जिनमें एटीएम से सीमित लेन-देन शामिल हैं। वहीं चालू खाते पर सर्विस चार्ज लिया जाता है।

लेन-देन की लिमिट तय

चालू खाता (Current Account) किसे कहते है चालू खाते के लाभ और नुकसान

Current Account

Step 1. Online Current Account खुलवाने के लिए सबसे पहले आपको SBI की वेबसाइट https://www.onlinesbi.com/ पर जाकर Apply for SBI/Current Account पर क्लिक करना होगा जिसमें आपको 2 ऑप्शन दिखेगें जिसमें आपको Current Account पर क्लिक करना हैं।

Step 2. इसके बाद आप एक नए पेज पर पहुंचेंगे जहां प्रॉसेस से जुड़ी जानकारी के साथ-साथ Start Now का विकल्प दिखेगा। इस पर क्लिक करने पर आपको तीन विकल्प Customer Application Form , Partially Filled Form , Print Account Opening Formदिखेगें।

Step 3. किसी एक विकल्प पर क्लिक करने पर उसके मुताबिक फॉर्म खुलेगा। Customer Information Sheet और Account Opening Form इसके दो हिस्से हैं। आप Customer Information Sheet भरने के बाद ही Account Opening Form भर पाएंगे।

चालू खाते और बचत खाते में अंतर

चालू खाताबचत खाता
Current Account में आप Unlimited Transaction कर सकते हैं।Saving Account में आप सिर्फ इतना ही पैसा निकाल सकते है जितनी बैंक ने लिमिट दी होती हैं।
करंट अकाउंट से आप करंट अकाउंट क्या होता है को जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं मिलता हैं।सेविंग अकाउंट में जमा राशि पर ब्याज दिया दिया जाता हैं।
करंट अकाउंट में आप को मिनिमम बैलेंस रखना होता हैं नहीं तो आपको इसके लिए चार्ज किया जायेगा।सेविंग अकाउंट में आप जीरो Balance पर भी अकाउंट खुलवा सकते है।
करंट अकाउंट में पैसे रखने की कोई लिमिट नहीं होती है।Saving Bank Account में बैलेंस रखने की लिमिट होती है अगर ज्यादा बैलेंस मेनटेन करते है तो टैक्स देना होता है।
सेविंग बैंक अकाउंट पर आप को कोई लिमिट या Terms and Conditions नहीं दिए जाते हैं।सेविंग अकाउंट कमर्चारियों, बिज़नेस करने वालों के लिए उपयोगी साबित होता हैं।

चालू खाते के नुकसान

  • करंट अकाउंट में जमा होने वाले पैसों पर ब्याज नहीं मिलता है।
  • SBI में करंट अकाउंट में मिनिमम दस हजार रखने होते हैं।

जरूर पढ़िए:-

उम्मीद हैं आपको चालू खाते की जानकारी पसंद आयी होगी, यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

रेटिंग: 4.54
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 349