child plan

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में कम निवेश में भी पाए अच्छा रिटर्न

यदि आपके पास अधिक पैसों की बचत नहीं हो पाती है। लेकिन फिर भी आप निवेश करना चाहते हैं तो आपके लिए पोस्ट ऑफिस में पैसे जमा करना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। पोस्ट ऑफिस की इस योजना में आप केवल 100 रुपये प्रति महीना जमा करके भी अच्छी-खासी बचत कर सकते है।

अधिकांश लोग अपना पैसा ऐसी जगह लगाना चाहते है जहां पहली बात तो पैसा डूबने का खतरा ना हो। इसके अलावा आगे चलकर समय के साथ उसमें अच्छी-खासी बढ़ोतरी हो। इसलिए यदि आप भी अपनी मेहनत की कमाई को सही जगह लगाना चाहते है तो पोस्ट आफिस की यह स्कीम आपके बहुत ही काम की है। इस स्कीम का नाम पोस्ट ऑफिस रिकरिंग डिपॉजिट ( POST OFFICE RECURRING DEPOSIT) है। यह एक सरकारी स्कीम है, इसलिए इसमें धोखाधड़ी होने की संभावना ना के बराबर है। इसके अलावा इसमें आपको 5.8 फीसदी सालाना के हिसाब से ब्याज भी मिलेगा।

इस स्कीम में आप 1 साल, 2 साल या 3 साल जैसी आपकी इच्छा हो उसी के हिसाब से आप इस योजना में अपने पैसे लगा सकते हैं। पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में 18 साल से अधिक का कोई भी व्यक्ति अपना अकाउंट खुलवा सकता है। इसमें आप अकेले या ज्वाइंट अकाउंट भी खुलवा सकते हैं। माता-पिता या अभिभावक अपने नाबालिग बच्चे का अकाउंट भी खुलवा सकते हैं। 10 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चे का अकाउंट अकेले भी खोला जा सकता है।

पोस्ट ऑफिस की इस योजना में निवेश करने के लिए कोई बहुत ज्यादा रकम की जरूरत नहीं पड़ती है। यदि आपके पास केवल 100 रुपये है तब भी आप इस स्कीम में निवेश कर सकते हैं। इसमें प्रत्येक तिमाही ब्याज की गणना होती है। हर तिमाही चक्रवृद्धि ब्याज के हिसाब से आपके पैसे बढ़ते रहते हैं।

इस योजना में निवेश करके आप भविष्य में अच्छा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप पोस्ट ऑफिस की इस RD में प्रति महीना 10,000 भी जमा करते है, तो आज से 10 साल बाद आपको कुल मिलाकर 16,28,963 रुपये मिलेंगे। यह एक अच्छी-खासी रकम है। इससे आपको भविष्य की चिंता कम ही करनी पड़ती है। इसमें आपका रिस्क भी बहुत ज्यादा नहीं है। सरकारी स्कीम है तो इसमें विश्वास और भरोसे की कमी भी नहीं है। इससे आपको अपने पैसे की सुरक्षा के बारे में अधिक चिंता नहीं करनी पड़ती है।

भविष्य निवेश के लिए अच्छा है

रिटायरमेंट पेंशन प्लान्स

सेवानिवृत्ति बीमा योजनाओं के साथ स्टाइल में अपनी सेवानिवृत्ति का आनंद लें

रिटायरमेंट पेंशन प्लान्स

सेवानिवृत्ति बीमा योजनाओं के साथ स्टाइल में अपनी सेवानिवृत्ति का आनंद लें

Take a step ahead to secure your life

SHARE THIS PAGE

By submitting my details, I override my NDNC registration and authorize Edelweiss Tokio Life Insurance Company Limited and its representatives to contact me through call, WhatsApp or E-mail for providing assistance with the proposal. I further consent to share my information with third parties for evaluating and processing this proposal.

Take a step ahead to secure your life

By submitting भविष्य निवेश के लिए अच्छा है my details, I override my NDNC registration and authorize Edelweiss Tokio Life Insurance Company Limited and its representatives to contact me through call, WhatsApp or E-mail for providing assistance with the proposal. I further consent to share my information with third parties for evaluating and processing this proposal.

Thank You For Your Rating.

We will soon verify the details and add your rating appropriately.


सेवानिवृत्ति पेंशन योजनाएं आपको वर्षों में अपनी कमाई को निवेश करने में मदद करती हैं और एक ऐसा फंड बनाती हैं जिसे आप अपने सेवानिवृत्ति के वर्षों के दौरान पूर्ण रूप से या इसे भागों में निकाल सकते हैं। इसके अलावा, ये योजनाएं आपके जीवन के सुनहरे वर्षों निवेश के साथ सुरक्षा के दोहरे लाभों के साथ आपकी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए आदर्श हैं। जीवन यापन की उच्च लागत और बढ़ती मुद्रास्फीति को देखते हुए, सेवानिवृत्ति योजना अधिक आवश्यक हो गई है।

सेवानिवृत्ति पेंशन योजनाएं आपको वर्षों में अपनी कमाई को निवेश करने में मदद करती हैं और एक ऐसा फंड बनाती हैं जिसे आप अपने सेवानिवृत्ति के वर्षों के दौरान पूर्ण रूप से या इसे भागों में निकाल सकते हैं। इसके अलावा, ये योजनाएं आपके जीवन के सुनहरे वर्षों निवेश के साथ सुरक्षा के दोहरे लाभों के साथ आपकी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए आदर्श हैं। जीवन यापन की उच्च लागत और बढ़ती मुद्रास्फीति को देखते हुए, सेवानिवृत्ति योजना अधिक आवश्यक हो गई है।

रिटायरमेंट प्लान के लाभ

    युवा अवस्था की ज़िम्मेदारियाँ : युवा अवस्था में नौकरी पेशा व्यक्ति, उन दिनों की जिम्मेदारियों जैसे कि घर का किराया, बच्चों की पढाई का खर्चा आदि को निभाते निभाते अपने बुढ़ापे की आर्थिक ज़रूरतों को नज़रअंदाज़ कर देता हैं और फिर एक ऐसा समय आता हैं जब उसे पैसो की ज़रूरतों को पूरा करने के अपने बच्चों या फिर रिश्तेदारों पर निर्भर होना पड़ता हैं | इसलिए यह बहुत जरूरी हो जाता हैं कि आप युवा अवस्था से ही अपनी रिटायरमेंट को बेहतर बनाने का प्रयास करे और यह आप एक सही रिटायरमेंट पॉलिसी ले के कर सकते है |

सेवानिवृत्ति योजनाएँ या पेंशन योजनाएँ क्या हैं?

सेवानिवृत्ति योजना या पेंशन योजना एक विशिष्ट प्रकार की बीमा पॉलिसी हैं जो आपको एक आरामदायक सेवानिवृत्त जीवन जीने में मदद करती हैं। ये योजनाएं आपको सुरक्षा प्रदान करती हैं और निवेश नीतियों के रूप में भी कार्य करती हैं जो सेवानिवृत्ति के बाद की आपकी जरूरतों जैसे चिकित्सा खर्च, रहने की लागत आदि को पूरा करने के लिए एक कोष जमा करने में मदद करती हैं।

ये योजनाएं आपकी कमाई को वर्षों में निवेश करती हैं और एक फंड बनाती हैं, जिसका उपयोग आप एक बार में या सेवानिवृत्ति के दौरान भागों में करते हैं। पर्याप्त निवेश और उचित योजना के साथ, आप आसानी से अपने सुनहरे वर्षों की योजना बना सकते हैं और सेवानिवृत्ति के बाद भी आय के एक स्थिर प्रवाह के साथ अपने भविष्य को सुरक्षित कर सकते हैं।

आपको एक सेवानिवृति योजना की आवश्यकता क्यों है?

हम अपनी दिन-प्रतिदिन की जरूरतों को पूरा करने के लिए अपनी मेहनत की कमाई का निवेश इतना अधिक करते हैं कि हम अपने बाद के वर्षों में अपने लिए एक आरामदायक और समृद्ध जीवन हासिल करने पर बहुत कम ध्यान देते हैं।

हममें से अधिकांश लोगों के नौकरी और यहां तक कि अच्छे लाइफ स्टाइल की मांग करते हैं| हमारे तनावपूर्ण जीवन की दैनिक भागदौड़ में, क्या हम अपने सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन के बारे में भी सोचते हैं? लेकिन इस सबके जिम्मेदार हम सब स्वयं हैं गहरी सांस गहरी सांस लें और अपने भविष्य के बारे में सोचें| यदि हम अपनी सेवानिवृति के बाद के जीवन का आनंद नहीं ले पा रहे हैं तो इतनी मेहनत करने का क्या मतलब है? लाइफस्टाइल के अलावा, हमारे पास अपने परिवारों के प्रति जिम्मेदारियां हैं जो सेवानिवृत्ति के साथ दूर नहीं हो सकती हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी सेवानिवृत्ति के बाद का जीवन सुचारू और शांतिपूर्ण रहे और आपके परिवार की देखभाल भी अच्छी तरह से होती रहे, अब आपके लिए सेवानिवृत्ति की योजना बनाना बहुत महत्वपूर्ण है। अपनी वर्तमान आयु, आय, लाइफ स्टाइल जीवन शैली और जीवन लक्ष्यों के आधार पर, आप एक निवेश राशि चुन सकते हैं और अपनी सेवानिवृत्ति के लिए योजना बना सकते हैं।

क्या आप रिटायरमेंट के बाद की आय में विश्वास रखते हैं?

प्रोफेशनल लाइफ से सेवानिवृत्ति का मतलब यह नहीं होना चाहिए कि आप नियमित आय प्राप्त करना बंद कर दें। सेवानिवृत्ति योजनाएं आपको अपनी बचत का एक हिस्सा आवंटित करने और उन्हें समय के साथ बढ़ने देती हैं। फिर आप सेवानिवृत्त होने के बाद नियमित भुगतान प्राप्त करने का विकल्प चुन सकते हैं।

बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए यहां लगाएं पैसा, नहीं करना पड़ेगा परेशानी का सामना

निवेश के लिए एफडी, एनएससी, पीपीएफ जैसी जमा योजनाएं हैं। साथ ही बेटी की पढ़ाई और शादी के लिए सुकन्या समृद्धि योजना है।

Written by: Sachin Chaturvedi @sachinbakul
Updated on: December 14, 2017 18:13 IST

child plan- India TV Hindi

child plan

नई दिल्ली। अपने बच्चों को बेहतर भविष्य देने के लिए भविष्य निवेश के लिए अच्छा है बचत और निवेश (Investment) जरूरी विकल्प है। ऐसा करने से माता-पिता होने के नाते आप अपने बच्‍चों को भविष्य में किसी भी आने वाली वित्तीय दिक्कत से सुरक्षा प्रदान करते हैं। इसके लिए बाजार में कई विकल्प मौजूद हैं, लेकिन जागरूकता की कमी के कारण अधिकांश लोग इनका लाभ नहीं उठा पाते। निवेश के लिए एफडी, एनएससी, पीपीएफ जैसी जमा योजनाएं हैं। साथ ही बेटी की पढ़ाई और शादी के लिए सुकन्या समृद्धि योजना है। आप चाइल्ड इंश्योरेंस का भी चयन कर सकते हैं। यह इंश्योरेंस कम इन्‍वेस्टमेंट प्लान की तरह काम करता है।

All you need to know: आपके न रहने पर भी बच्‍चे का भविष्‍य सुनिश्चित करता है चाइल्‍ड इंश्‍योरेंस

Child Insurance के साथ लें सही राइडर, नहीं करना पड़ेगा बच्चे को आर्थिक तंगी का सामना

चीनी कंपनियों का निवेश के लिए सबसे पसंदीदा स्‍थान है सिंगापुर, इस लिस्‍ट में भारत लुढ़कर भविष्य निवेश के लिए अच्छा है पहुंचा 37वें पायदान पर

ये है घर बैठे म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करने का सबसे सरल तरीका, नहीं होगी कोई परेशानी

बैंक एफडी समेत अन्य जमा योजनाएं

फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें आपको सुनिश्चित रिटर्न मिलता है और बाजार के उतार-चढ़ाव का इस पर कोई असर नहीं पड़ता। हर बैंक की ब्‍याज दरें अलग-अलग होती हैं और यह एफडी की समय अवधि पर निर्भर करती हैं। सामान्य तौर पर लोग बैंकों में अपने धन को एक निर्धारित समय के लिए एफडी, राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) और पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) में निवेश करना बेहतर समझते हैं, क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार का जोख़िम नहीं होता है। बैंकों की ब्याज दर में उतार-चढ़ाव होते रहने की वजह से लोगों का रुझान एनएससी की ओर भी होता है। साथ ही म्‍यूचुअल फंड, यूनिट लिंक्‍ड प्‍लान, गवर्नमेंट बॉण्‍ड जैसे विकल्‍पों का भी चयन कर सकते हैं।

बच्चों की पढ़ाई के लिए करें इन्वेस्टमेंट

अपनी बेटी के लिए सुकन्या समृ्द्धि एकाउंट स्कीम में निवेश करें। इसे बच्चियों की पढ़ाई और उच्च शिक्षा के लिए होने वाले खर्च को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। इस योजना के तहत एक एकाउंट प्रति बच्ची ही खोला जा सकता है। कोई भी माता-पिता अपनी 10 साल तक की बेटी का यह खाता खुलवा भविष्य निवेश के लिए अच्छा है सकता है। इस योजना में निवेश करने पर सरकार 8.6 फीसदी की दर से ब्‍याज देती है। यदि आपकी दो बेटियां हैं तो दोनों का अलग-अलग खाता खुलवाया जा सकता है। सुकन्‍या खाते को किसी भी बैंक या डाकघर में खुलवाया जा सकता है। इसमें 1000 रुपए से लेकर हर साल 1.5 लाख रुपए जमा कर सकते हैं। सुकन्या समृद्धि खाते की मैच्‍योरिटी अवधि 21 वर्ष है। हालांकि बेटी के 18 वर्ष की होने पर इस खाते में जमा कुल रकम में से 50 फीसदी रकम निकाली जा सकती है।

चाइल्ड इंश्योरेंस से बच्चों का भविष्य करें सुनिश्चित

बच्‍चों के लिए निवेश का एक बेहतर विकल्‍प चाइल्‍ड इंश्‍योरेंस भी है। अभिभावक को यह समझना चाहिए कि चाइल्‍ड इंश्‍योरेंस प्‍लान वास्‍तव में इंश्‍योरेंस-कम- इन्‍वेस्‍टमेंट प्रोडक्‍ट्स होते हैं, जो उनकी अनुपस्थिति में बच्‍चे के भविष्‍य को सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। इसकी मदद भविष्य निवेश के लिए अच्छा है से बढ़ते शिक्षा खर्च को पूरा करने में मदद मिलती है और बच्‍चे की अन्‍य जरूरतों को भी पूरा किया जा सकता है। एक चाइल्‍ड प्‍लान एक वित्‍तीय सहायक के तौर पर आपकी मदद करता है, जब आपका बच्‍चा विभिन्‍न जीवन स्‍तर पर होता है, जैसे प्राइमरी और उच्‍च शिक्षा, बिजनेस शुरू करना या शादी। चाइल्‍ड इंश्‍योरेंस प्‍लान एक इन्‍वेस्‍टमेंट टूल की तरह भी काम करता है। कम उम्र में चाइल्‍ड प्‍लान में निवेश शुरू करने से आपको बहुत अच्‍छा रिटर्न मिलता है और जब आपको जरूरत होती है आपके हाथ में पर्याप्‍त नकदी होती है। जितना जल्‍दी आप निवेश करना शुरू करेंगे, लंबी अविध में भविष्य निवेश के लिए अच्छा है उतना ज्‍यादा ही रिटर्न आप हासिल कर पाएंगे।

खर्चों का हिसाब-किताब

आंकड़ों के मुताबिक बच्चे जब 1-5 साल की उम्र के बीच में होते हैं, उस दौरान खर्चें ज्यादा होते हैं। वहीं जब बच्चा 5 साल का हो जाता है उसके खर्च धीरे-धीरे कम होने लगते हैं, लेकिन जब बच्चा 15 साल के आसपास का होता है, खर्च फिर बढ़ने लगते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बच्चों के ट्यूशन और कोचिंग क्लासेस का खर्चा भविष्य निवेश के लिए अच्छा है बढ़ जाता है। यह खर्च कुछ हजार रुपए से लेकर एक लाख रुपए तक के होते हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि माता-पिता बच्चे की बोर्ड परीक्षा के लिए अच्छी से अच्छी सुविधाएं उपलब्ध कराते हैं।

उच्च शिक्षा की पढ़ाई का खर्च

स्कूल के बाद कॉलेज का खर्चा इस बात पर निर्भर करता है कि बच्चा कौन सी पढ़ाई करना चाहता है। प्रोफेशनल डिग्री कोर्स जैसे कि मेडिकल और इंजीनियरिंग काफी महंगे होते हैं।

जल्दी प्लानिंग ज़रूरी है

बच्चे की शिक्षा की प्लानिंग जल्दी शुरू करना फायदेमंद होता है। जितनी जल्दी शुरू करते हैं उतने ज्यादा समय के लिए बचत कर सकते हैं। ऐसे में उसकी उच्च शिक्षा और पढ़ाई पर होने वाले खर्चे का आपके पास पर्याप्त कॉर्पस बन जाएगा।

निवेश का डायवर्सिफिकेशन करें

अपने निवेश को महंगाई से बचाने के लिए पोर्टफोलियो में विभिन्नता लाएं। इन्‍वेस्टमेंट पोर्टफोलियो का निर्माण दो के जोड़े में करें ताकि वह एक दूसरे से संबंधित रहें। अर्थव्यवस्था में किसी भी तरह की असंगति के समय दो निवेश एक दूसरे के साथ संतुलन बनाएं रखेंगे। यह स्ट्रैट्जी आपके निवेश को मंदी से बचाने के लिए सबसे असरदार तरीका है।

PPF Scheme: पीपीएफ अकाउंट में निवेश करके संवारे अपने बच्चे का भविष्य, मिलेंगे ये फायदे, जानें क्या है पूरी प्रक्रिया

PPF Account Open online: अगर बच्चे के माता​-पिता या अभिभावक अपनी कमाई से बच्चे के पीपीएफ अकाउंट (PPF account) में निवेश करते हैं तो वह सेक्शन 80सी के जरिये टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं.

PPF Scheme: पीपीएफ अकाउंट में निवेश करके संवारे अपने बच्चे का भविष्य, मिलेंगे ये फायदे, जानें क्या है पूरी प्रक्रिया

पीपीएफ स्‍कीम (PPF Scheme) में फिलहाल 7.1 फीसदी की दर से ब्‍याज (Interest Rate) मिलता है.

PPF Account Open: हर माता-पिता का सपना अपने बच्चों के भविष्य को संवारने का होता है. आज के दौर में महंगाई तेजी से बढ़ रही है. आप चाहे देश के किसी भी कोने में रह रहे हो लेकिन आपने यह महसूस किया होगा कि लिविंग कॉस्ट कितनी तेजी से बढ़ रही है. बच्चे के जन्म के साथ ही माता-पिता को उसके पालन-पोषण से लेकर पढ़ाई लिखाई और उसके भविष्य के बारे में चिंता सताने लगती है. ऐसे में कुछ माता-पिता बचत करने का सोचते हैं यानी वह अपनी कमाई का कुछ हिस्सा अपने बच्चों के लिए जमा करते हैं. बच्चों के भविष्य के लिए बचत करना जरूरी भी है. लेकिन अगर आप अपने बच्चे के भविष्य को और भी बेहतर तरह से सुरक्षित करना चाहते हैं और किसी अच्छे ऑप्शन की तलाश रहे हैं तो यह खबर आपके लिए बेहद जरूरी है.

यह भी पढ़ें

आप अपने बच्चों के भविष्य से जुड़ी सभी चिंताओं से निपटने के लिए निवेश को एक जरिया बना सकते हैं. निवेश एक ऐसा तरीका है जो आपके बच्चे के भविष्य को ना सिर्फ सुरक्षित करेगा बल्कि भविष्य में आने वाली किसी भी विपरीत परिस्थितियों के लिए आप को आर्थिक रूप से मजबूत भी करेगा. इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी ये है कि आप कोई ऐसी स्कीम या योजना चुनें जो हर तरह के जोखिम से मुक्‍त हो और गारंटीड रिटर्न दे.

पीपीएफ निवेश के लिए सबसे बेहतर स्‍कीम

बच्‍चे के भविष्‍य को देखते हुए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund) निवेश के लिए एक बेहतर स्‍कीम साबित हो सकता है. पीपीएफ स्‍कीम (PPF Scheme) में फिलहाल 7.1 फीसदी की दर से ब्‍याज (Interest Rate) मिलता है. इस स्कीम की खास बात ये है कि इसमें कंपाउंडिंग इंटरेस्‍ट होने के कारण आपको अच्‍छा खासा मुनाफा हो सकता है.

इसके तहत आप बच्चों का अकाउंट भी खुलवा सकते हैं. लेकिन आपको अपने बच्चे का पीपीएफ अकाउंट (PPF Account) खुलवाने से पहले इन बातों को जरूर जान लेना चाहिए.

अगर आप अपने बच्चों का पीपीएफ अकाउंट खुलवाना (PPF Account Open) चाहते हैं तो सबसे पहले आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि इसके लिए फिलहाल कोई न्यूनतम उम्र निर्धारित नहीं की गई है. बच्चे के जन्म के बाद माता-पिता द्वारा किसी भी उम्र में उसका पीपीएफ अकाउंट खुलवाया जा सकता है. इस पीपीएफ अकाउंट को अगर आप बच्चे के 18 साल की उम्र से भविष्य निवेश के लिए अच्छा है पहले खोलते हैं तो यह सिर्फ माता-पिता या अभिभावक द्वारा ही खोला जा सकता है और इसमें निवेश भी सिर्फ वही कर सकते हैं.

हालांकि, जब बच्चे की उम्र 18 साल से ज्यादा की हो जाएगी या 18 साल पूरी हो जाएगी तो वह खुद इस अकाउंट में निवेश कर सकता है. पीपीएफ अकाउंट 15 साल की अवधि के लिए खोला जाता है.

इनकम ​टैक्स छूट का कर सकते हैं दावा

आपको बता दें कि इसके तहत इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80सी ( Section 80C ) के तहत टैक्स छूट का भी प्रावधान है. अगर बच्चे के माता​-पिता या अभिभावक अपनी कमाई से बच्चे के पीपीएफ अकाउंट (PPF account) में निवेश करते हैं तो वह सेक्शन 80सी के जरिये टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं.

जानें क्या है पीपीएफ अकाउंट खोलने की प्रक्रिया

आप बैंक या पोस्ट ऑफिस के जरिये अपने बच्चे भविष्य निवेश के लिए अच्छा है का पीपीएफ अकाउंट खुलवा सकते हैं. कई बैंक ऑनलाइन भी यह सुविधा दे रही है. इसके लिए यह जरूरी है कि बच्चों के माता-पिता या फिर अभिभावक, जो उसका पीपीएफ अकाउंट खोलना चाहते हैं उनका उस बैंक में एक सेविंग अकाउंट (Savings Accounts) पहले से खुला होना चाहिए. आपको पीपीएफ अकाउंट खुलवाने के लिए बैंक या पोस्ट ऑफिस से फॉर्म लेकर उसमें अपनी सारी जानकारियां भरें. इसके लिए आपके पास कुछ डाक्यूमेंट्स भी होना जरूरी है. जैसे कि बच्‍चे के माता​ पिता या अभिभावक का पासपोर्ट साइज फोटो और सरकारी मान्यता प्राप्त बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र और KYC डॉक्‍यूमेंट्स आदि. जब आप इस फॉर्म को भर देंगे और इसके लिए जरूरी सभी डाक्यूमेंट्स को जमा करा देंगे तो इसके बाद पीपीएफ अकाउंट खोल दिया जाएगा.

मेच्योरिटी पीरिएड से पहले भी सशर्त कर सकते हैं निकासी

इसके अलावा अगर आप किसी वजह से इस पीपीएफ अकाउंट को निर्धारित अवधि से पहले बंद करना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ शर्तें रखी गई हैं. पीपीएफ अकाउंट को मेच्योरिटी पीरिएड (Maturity Period) के पहले तभी बंद किया जा सकता है, जब आपको इस अवधि के दौरान बच्चे की उच्च शिक्षा के लिए पैसों की बहुत जरूरत हो. इसका मतलब है कि मान्यता प्राप्त संस्थान में एडमिशन का प्रमाण देने के बाद बच्‍चे के माता-पिता इस अकाउंट को बंद कर सकते हैं. लेकिन यह सुविधा पीपीएफ अकाउंट खोलने के 5 साल बाद दी जाती है. हालांकि, अगर बच्‍चे के लिए पैसों की जरूरत हो तो इस बात का प्रमाण देकर माता- पिता या अभिवावक उस अकाउंट में से आंशिक निकासी भी कर सकते हैं.

EPF vs PPF vs VPF: अपने लिए कैसे चुनें बेस्ट इन्वेस्टमेंट स्कीम, यहां समझें

EPF vs PPF vs VPF: अपने लिए कैसे चुनें बेस्ट इन्वेस्टमेंट स्कीम, यहां समझें

डीएनए हिंदी: कर्मचारी भविष्य निधि (EPF), सार्वजनिक भविष्य निधि (PPF) और स्वैच्छिक भविष्य निधि (VPF) ऐसी निवेश योजनाएं हैं जो न केवल अच्छा रिटर्न देती हैं बल्कि सुरक्षित भी हैं. जहां ये सभी योजनाएं निवेश पर एक निश्चित रिटर्न की गारंटी देती हैं, वहीं उन्हें कर छूट का लाभ भी मिलता है. यही कारण है कि लंबी अवधि के लिए जोखिम मुक्त निवेश की तलाश कर रहे निवेशकों को ये भविष्य निधि योजनाएं काफी पसंद आ रही हैं.

इन तीनों योजनाओं में निवेश करने के कई फायदे हैं. इसलिए निवेशकों के लिए इनमें से किसी एक को चुनना बहुत मुश्किल होता है. ईपीएफ (EPF) एक कामकाजी व्यक्ति के वेतन से एक अनिवार्य योगदान है. पीपीएफ कोई भी कर सकता है चाहे वह काम करे या न करे. इसी तरह वीपीएफ एक स्वैच्छिक योजना है. इसका कोई अलग खाता नहीं है. इसके लिए ईपीएफ खाते में ही निवेश करना होगा.

कर्मचारी भविष्य निधि

इस योजना के तहत कर्मचारी को अपने वेतन की एक निश्चित राशि EPF खाते में जमा करनी होती है. नियोक्ता भी कर्मचारी के ईपीएफ खाते में उतनी ही राशि जमा करता है जितनी कर्मचारी करता है. बता दें कि ईपीएफ पर जमा राशि पर ब्याज मिलता है और इसमें टैक्स छूट भी मिलती है.

सामान्य भविष्य निधि

PPF सरकार की एक गारंटीड निवेश योजना है. इसमें रिटर्न फिक्स होता है और टैक्स में छूट मिलती है. इसकी खास बात यह है कि इसमें वेतनभोगी और गैर-वेतनभोगी लोग निवेश कर सकते हैं. नियोक्ता पीपीएफ में कोई योगदान नहीं करता है. पीपीएफ में चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है. इस स्कीम में कोई भी व्यक्ति 15 साल के लिए निवेश कर सकता है.

वीपीएफ

स्वैच्छिक भविष्य निधि (VPF) एक स्वैच्छिक योजना है. आप अपनी पसंद के ईपीएफ में जो भी निवेश करते हैं वह वीपीएफ में जाता है. यह ईपीएफ में किए जाने वाले 12 फीसदी निवेश से अलग है. स्वैच्छिक भविष्य निधि कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) के समान ब्याज अर्जित करती है. इसकी ब्याज दरें हर साल बदलती रहती हैं.

कहां निवेश करें?

नौकरीपेशा व्यक्ति ईपीएफ (EPF) में ही निवेश करते हैं. अगर आप वेतनभोगी हैं और रिटायरमेंट के लिए ज्यादा फंड जमा करना चाहते हैं तो आपको वीपीएफ (VPF) में भी निवेश करना चाहिए. पीपीएफ (PPF) में आप अलग से पैसा जमा कर सकते हैं. पीपीएफ या वीपीएफ में निवेश करने का निर्णय व्यक्ति की निवेश क्षमता और निवेश पर रिटर्न की उम्मीद पर निर्भर करता है. चूंकि वीपीएफ पर ज्यादा ब्याज मिलता है इसलिए आप इसमें निवेश करके तेज दर से ज्यादा रिटायरमेंट फंड बना सकते हैं.

अगर आप 15 साल के भीतर कोई वित्तीय लक्ष्य हासिल करना चाहते हैं तो आपको पीपीएफ में निवेश करना चाहिए. जिनकी आमदनी ज्यादा है वे VPF और PPF दोनों में टैक्स फ्री इंटरेस्ट के लिए निवेश कर सकते हैं. यह टैक्स सेविंग और लंबी अवधि में एक बड़ा कॉर्पस बनाने के लिए एक अच्छा निवेश का विकल्प है.


देश-दुनिया की ताज़ा खबरों Latest News पर अलग नज़रिया, अब हिंदी में Hindi News पढ़ने के लिए फ़ॉलो करें डीएनए हिंदी को गूगल, फ़ेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर.

रेटिंग: 4.16
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 341