जानकारों का कहना :

Master (1)

अप्रैल 2020 से हर महीने औसतन 13 लाख नए डीमैट खाते खुले, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने जारी किए आंकड़े

Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: June 06, 2021 23:33 IST

अप्रैल 2020 से हर महीने औसतन 13 लाख नए डीमैट खाते खुले, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने जारी किए आंकड़े- India TV Hindi

Photo:FILE

अप्रैल विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय 2020 से हर महीने औसतन 13 लाख नए डीमैट खाते खुले, विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने जारी किए आंकड़े

मुंबई: घरेलू शेयर बाजार के नए शिखर पर पहुंचने के साथ वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान ब्रोकरेज कंपनियों ने पिछले साल अप्रैल से 31 मई 2021 तक हर महीने औसतन 13 लाख नए डीमैट खाते खोले हैं। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के आंकड़ों के अनुसार 31 मई 2021 तक बाजार में खुदरा निवेशकों की कुल संख्या 6.97 करोड़ हो गई है।

सोने-चांदी के कीमतों में आई गिरावट, जानें 10 ग्राम गोल्ड का भाव

सोने के भावों में मामूली नरमी देखी जा रही है. एक बार फिर सस्ता (Gold Price) हुआ है. वहीं, चांदी की लगभग स्थिर बनी हुई है.

जनता से रिश्ता वेबडेसक | सोने के भावों में मामूली नरमी देखी जा रही है. एक बार फिर सस्ता (Gold Price) हुआ है. वहीं, विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय चांदी की लगभग स्थिर बनी हुई है. सोने के भीव (Gold Price) पिछले कुछ हफ्तों से 50,000 के नीचे बनए हुए हैं.

बता दें, इस जनवरी के शुरुआत में सोने के भाव 51,660 तक पहुंच गए थे, लेकिन अब सोना 49,000 से थोड़ा ही ऊपर है. बीते कारोबारी सत्र यानी शुक्रवार को बाजार विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय खुलने पर 24 कैरेट के 10 ग्राम Gold की कीमत (Sone विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय ka Aaj Ka Bhav) 49,420 थी, जो लगभग 300 रुपये विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय गिरकर 49,140 पर बंद हुआ. वहीं, बाजार खुलने पर 1 किलोग्राम चांदी (Silver Price) की कीमत 66,236 थी जो लगभग 500 रुपये की तेजी के साथ 65,792 पर बंद हुई.

लगातार विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय काफी समय की गिरावट के बाद डॉलर के मुकाबले रुपये में नज़र आई मजबूती

Kavita Singh Rathore

राज एक्सप्रेस। आज पूरे विश्व में सिर्फ एक ही मामले की चर्चा है और वह है यूक्रेन और रूस के बीच चल रहा युद्ध। इस युद्ध के चलते सबसे ज्यादा असर शेयर मार्केट पर देखने को मिला है पर इसमें लगातार काफी समय तक भारी गिरावट देखने को मिलती रही और शेयर मार्केट (Share Market) में दर्ज हुई गिरावट का असर भारत के रूपये पर विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय पड़ता रहा है। डॉलर के मुकाबले इसमें अब तक रिकॉर्ड स्तर की गिरावट दर्ज हो चुकी है। हालांकि, आज गुरुवार को डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती देखने विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय को मिली है।

रुपये में दर्ज हुई मजबूती :

फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस सौदे में मार्जिन 50% तक बढ़ेगा, जाने क्या होगा असर

फ्यूचर्स एंड ऑप्शंस सौदे में मार्जिन 50% तक बढ़ेगा, जाने क्या होगा असर

इनिशियल या स्पैन मार्जिन के बाद एक दूसरा डिपॉजिट होता है, जिसे एक्सपोजर मार्जिन कहा जाता है. यह रकम ब्रोकर के ट्रेड ऑर्डर प्लेस होने के बाद अपने क्लाइंट से लेना होता है. लेकिन, शायद ही कभी ब्रोकर अपने क्लाइंट से इस मार्जिन की मांग करते हैं. ब्रोकर क्लियरिंग कॉर्पोरेशन से उधार लेकर खुद यह रकम स्टॉक एक्सचेंज को चुका देते हैं. 2 जुलाई से यह तरीका बंद हो जाएगा.

अब एक्सपोजर मार्जिन भी देना होगा
सेबी और स्टॉक एक्सचेंजों ने ब्रोकर्स को स्पैन मार्जिन के साथ एक्सपोजर मार्जिन भी क्लाइंट से वसूलने को कहा है. एक्सपोजर नहीं देने पर क्लाइंट को जुर्माना भरना होगा. कोटक सिक्योरिटीज के सीईओ कमलेश विश्व एक्सचेंजों के खुलने और बंद होने का समय राव ने कहा, "क्लाइंट से एक्सपोजर मार्जिन वसूलने को अनिवार्य बना देने से अपफ्रंट मार्जिन कॉस्ट 30 से 50 फीसदी तक बढ़ जाएगा. यह कास्ट ट्रेडिंग से जुड़े शेयर और इंडेक्स पर निर्भर करेगा."

रेटिंग: 4.36
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 846