आसान शब्दों में ट्रेडिंग का मीनिंग व्यापर होता है जैसे किसी वस्तु को खरीदकर बेचना और मुनाफा कमाना और इसी तरह से Stock Trading भी है।

Stock Market Investment: How Much Money needed for investment

ऑनलाइन ट्रेडिंग करते वक्त इन बातों का जरूर रखें ध्‍यान, जरा सी लापरवाही पड़ेगी भारी

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - July 7, 2021 / 01:02 PM IST

ऑनलाइन ट्रेडिंग करते वक्त इन बातों का जरूर रखें ध्‍यान, जरा सी लापरवाही पड़ेगी भारी

आईपीओ से जुटाई राशि और फीस का अनुपात देखें तो सबसे ज्यादा अनुपात अमी ऑर्गेनिक्स का है. लीड मैनेजर्स ने अमी ऑर्गेनिक्स के मामले में जुटाई गई राशि की 7.3% फीस वसूल की

कैपिटल मार्केट में ट्रेडिंग के लिए ऑनलाइन ट्रेडिंग (O nline Trading ) आसान तरीका है. ऑनलाइन ट्रेडिंग के बहुत फायदे है, लेकिन इसमें आपकी जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है, क्योंकि छोटी सी गलती या लापरवाही आपको काफी नुकसान पहुंचा सकती है. चूंकि ऑनलाइन ट्रेडिंग (O nline Trading ) एक क्लिक पर संभव है, इसलिए निवेश करना इतना आसान होता है कि लोग अक्सर निवेश के पहलू और इसमें शामिल जोखिमों को भूल जाते हैं. ऑनलाइन ट्रेडिंग (O nline Trading ) करते वक्त कुछ बातें ध्यान में रखने से आपको सबसे खराब स्थिति के लिए तैयार रहने में और सभी संभावित जोखिमों के खिलाफ खुद को तैयार और शिक्षित करने में मदद मिलेगी. ऑनलाइन ट्रेडिंग (O nline Trading ) का आनंद लें, लेकिन सुरक्षित और निर्बाध ट्रेडिंग के लिए क्या करें और क्या न करें, इस पर भी नज़र रखें. यहां हम ऐसी कुछ बातें समजने का प्रयास करेंगे जो ओनलाइन ट्रेडिंग में आपके काम आ सकती है.

ऑनलाइन ट्रेडिंग करते वक्त क्या ध्यान रखना चाहिए

– यदि आप ट्रेडिंग की दुनिया में नए है तो पहला कदम खुद को शिक्षित करने का होना चाहिए. ऑनलाइन ट्रेडिंग के जरिए निवेश शुरू करने का निर्णय लेने से पहले यह सबसे महत्वपूर्ण कदम है. इसके साथ जुडे लोगों से बात करें और प्लस एवं माइनस पॉइन्ट्स को समजने की कोशिश करे.
– अपने ट्रेडिंग अकाउंट को हैकिंग के खतरे से बचाने के लिए नियमित रूप से पासवर्ड बदलते रहे औऱ आपको अपने ट्रेडिंग अकाउंट खोलने ट्रेडिंग कैसे शुरू करें के लिए दोहरे प्रमाणीकरण पर जोर देना चाहिए.
– सुनिश्चित करें कि आपका बैंक खाता, ट्रेडिंग खाता और डीमैट खाता एक निर्बाध श्रृंखला में जुड़ा हुआ है. ऐसा करने से बैंक खाते और डीमैट खाते में डेबिट और क्रेडिट सहजता से होता रहेगा.
– अपने डीमैट खाते से ओटोमेटिक डेबिट के लिए पावर ऑफ एटर्नी करवा ले. इस तरह, आपको हर बार अपने डीमैट खाते से शेयर बेचने पर डेबिट निर्देश पर्ची (DIS) जमा करने से छूटकारा मिलेगा.
– जब आपकी ट्रेड बुक अपडेट हो जाती है, तो इसे अपने इलेक्ट्रॉनिक कॉन्ट्रैक्ट नोट से दैनिक आधार पर क्रॉस चेक जरूर करें.
– अपने प्रोफिट स्टेटमेंट को अपने खाता बही से भी जांचें औऱ सुनिश्चित करे कि आपके खाते से जितने भी शुल्क डेबिट किए गए हैं वो किस तरह के चार्जिस के तहत आते है.

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

एंजल ब्रोकिंग में इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें लॉन्ग पोजीशन दर्शाती है कि मार्केट में आपके दृष्टिकोण के हिसाब से तेजी है। अपने विश्लेषण करने के बाद यदि आपको लगता है कि मार्केट मौजूदा पोजीशन से ऊपर जाएगी तो आपको निफ़्टी, बैंक निफ़्टी या सेंसेक्स या स्टॉक खरीदने चाहिए।

आइए इसको एक उदाहरण के साथ समझे मान ट्रेडिंग कैसे शुरू करें लीजिए निफ़्टी 13500 पर है और आप यह सोचते हैं कि यह अभी और ऊपर जाएगा। ट्रेडिंग कैसे शुरू करें इस परिदृश्य में आप निफ्टी या अपनी पसंद का स्टॉक खरीदेंगे।

ऑनलाइन Demat Account खुलवाने के क्या हैं फायदे और यह कैसे ट्रेडिंग अकाउंट से है अलग

डीमैट अकाउंट को अच्छी तरह से समझने के लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि ट्रेडिंग अकाउंट (Trading Account) क्या है। बता दें कि ट्रेडिंग अकाउंट एक इन्वेस्टमेंट अकाउंट है जहां निवेशक अपने शेयरों या दूसरे सिक्योरिटीज की खरीद और बिक्री करता है।

नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क। मार्केट की जब भी हम चर्चा करते हैं, तो हम Demat Account (डीमैट अकाउंट) के बारे में जरूर सुनते हैं। इसका मतलब क्या है और क्या निवेशकों को इसके बारे में जानना जरूरी है, इसके अलावा यह बैंक अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट से कैसे अलग है, आइए इसको आसान भाषा में समझते हैं।

यह तो हम सभी जानते हैं कि पैसे जमा करना हो या फिर पैसे की लेनेदेन करनी हो तो हमारे पास बैंक अकाउंट होना चाहिए। लेकिन जब आप शेयर मार्केट में कदम रखते हैं और शेयर की ट्रेड करते हैं तो वहां दो अकाउंट्स को खुलवाना आपके लिए अहम हो जाता है। पहला है ट्रेडिंग अकाउंट और दूसरा है डीमैट अकाउंट (Demat and Trading Account Online)।

डीमैट अकाउंट से पहले ट्रेडिंग अकाउंट को समझें

डीमैट अकाउंट को अच्छी तरह से समझने के लिए सबसे पहले जानते हैं कि ट्रेडिंग अकाउंट (Trading Account) क्या है। बता दें कि ट्रेडिंग अकाउंट एक इन्वेस्टमेंट अकाउंट है, जहां निवेशक अपने शेयरों या दूसरे सिक्योरिटीज की खरीद और बिक्री करता है। यह बैंक अकाउंट और डीमैट अकाउंट के बीच एक लिंक प्रदान करता है। अगर आप शेयर मार्केट (Share Market) में ट्रेड ट्रेडिंग कैसे शुरू करें करना चाहते हैं तो इस अकाउंट को ओपन करना अनिवार्य है।

Stock Market Investment Stock Split Bonus Share

क्या है डीमैट अकाउंट

डीमैट "डीमैटरियलाइजेशन" का संक्षिप्त नाम है, जिसका अर्थ है फिजिकल शेयर्स और सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करना। इलेक्ट्रॉनिक रूप में अपने शेयर को एक जगह रखने या होल्ड करने के लिए डीमैट अकाउंट आवश्यक है। यह ठीक वैसे ही है जैसे आप अपने बैंक में पैसे को जमा करते हैं। डीमैट अकाउंट शेयरों और अन्य सिक्योरिटीज को खरीदने और बेचने के लिए त्वरित और सुरक्षित तरीके से सुविधा प्रदान करता है। इसे NSDL (National Security Depository Ltd) और CDSL (Central Depository of Securities India Ltd) मैनेज करते हैं।

1. जब हमारे पास फिजिकल शेयर्स या बॉड्स होते हैं, तो उसके खोने डर ज्यादा होता है। इसके अलावा फ्रॉड भी होने की संभावना होती है। जब पेपरलेस ऑनलाइन डीमैट अकाउंट (Demat Account Online) की बात आती है, तो यह पूरी तरह से सुरक्षित है।

2. आप अपने डीमैट अकाउंट में रखे शेयर या सिक्योरिटीज पर बैंक लोन सकते हैं। इसके अलावा आप इस पर ब्याज भी कमा सकते हैं।

ट्रेडिंग कैसे शुरू करें How to start Trading ट्रेडिंग कैसे शुरू करें in Hindi

आजकल ट्रेडिंग करने के लिए कई सारे App उपलब्ध है जैसे expert option , IQ Option , Olymp Trade , Binomo Trading App etc. लेकिन अगर आपको एक सफल ट्रेडर बनना है तो आपको Share Market में ट्रेडिंग करना चाहिए।

इसके लिए सबसे पहले आपको किसी Broker के माध्यम से Demat Account खुलवाना है और उस Demat Account में आपको अपने Bank Account से Money Add करके ट्रेडिंग करनी है.

शेयर बाजार में आप दो तरह से ट्रेडिंग कर सकते हैं पहला Stocks को sell/buy कर सकते है दूसरा आप Future And Options ( F&O ) में ट्रेडिंग कर सकते हैं. Future and Options को Derivative trading कहा जाता हैं।

चूकि F&O में Trade करना High Risk हो सकता हैं इसलिए आपको पहले Stocks में Trading करके बाजार को समझना है। बाजार में निवेश की शुरआत ट्रेडिंग कैसे शुरू करें से पहले आपको Market को अच्छे से विश्लेषण करना है ताकि आपका पैसा सुरक्षित रहें।

Demat Account ट्रेडिंग कैसे शुरू करें कैसे ओपन करें

तो यह सब करने के बाद हम आ जाते हैं अपने Demat Account पर। Account Opening के लिए आपको एक अच्छे और low brokerage वाले broker को चुनना है जिसका कोई hidden charge ना हो।

Account Opening के लिए आपके पास Aadhaar Card , Pan Card , 6 Month की Bank Statement होनी चाहिए 10,000 रुपये की क्लोजिंग के साथ ( F&O में Trade के लिए ). नीचे कुछ पॉपुलर Broker के नाम दिए गए हैं जिनसे आप Account खुलवा सकते हैं –

Upstox , Groww , Paytm Money , Zerodha , Kotak Securities , Angel One , Samco Trading , HDFC Securities

लेकिन अगर आप beginner हैं stock market में तो आपको Groww से Demat Account खुलवाना चाहिए क्योंकि इसका Dashboard समझना काफी आसान है और इसमें कोई hidden charge नहीं है और इसके करीब 40 million users हैं.ट्रेडिंग कैसे शुरू करें

नीचे Groww Android App का लिंक दिया हुआ है जिस पर क्लिक करके आप डाउनलोड कर सकते हैं. इसके साथ ही यह iOS पर भी उपलब्ध है।

Option Trading in hindi

Option Trading एक ऐसा सिस्टम है शेयर मार्किट में जिससे 1000 से भी 10,000 या उससे ज्यादा भी कमा सकते हैं सिर्फ एक दिन या कुछ ही घंटों में. अगर आप Stop Loss लगाकर ट्रेडिंग करते हैं तो Loss आपका limited ही रहेगा लेकिन Profit की इसमें कोई लिमिट है.

जैसा की हमने ऊपर जाना था Option Trading में High Risk होता है लेकिन फिर भी अगर आप मार्किट की अच्छी समझ रखते हैं और risk management करना जानते हैं इस Stock Market की इस segment में Profit की कोई सीमा नहीं है।

इसमें NSE ( National Stock Exchange ) की Indexes जैसे NIFTY 50 , NIFTY BANK , NIFTY MID CAP आदि में इनकी Price पर पैसा लगता है कि इनके दाम बढ़ेंगे या फिर घटेंगे। अगर लगता है Market Increase होगा तो Call buy करना है और अगर decrease होगा तो Put buy करना है।

इसके अलावा आप डायरेक्ट कम्पनी में भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं जैसे Reliance , TCS , HDFC Bank etc. आइये अब step by step देखते हैं ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे की जाती है.

Option Trading कैसे शुरू करें

सबसे पहले आपको जिस भी Indices या Share में ऑप्शन ट्रेड करना है , उसका Option Chain समझना होगा जैसे किस Date की ऑप्शन खरीदनी या बेचनी है , Strike Price कितना है , LTP कितना है , OI कितना है आदि।

इसके बाद अगर आपको लगता है Market Up होगा तो आपको Call Option Buy करना है या अगर Market Down तो Put Option Buy करना है। Option Weekly और Monthly Expire होता है इसलिए Buy करते वक्त आपको Date चुननी है।

जैसे NIFTY 50 का ऑप्शन खरीदना है तो सबसे पहले ये तय करना आप किस Strike Price पर खरीदना चाहते हैं जैसे 17500 , 17800, 17900 , ट्रेडिंग कैसे शुरू करें 18000, 18200 . इसके बाद Call/Put Price देखना है जो Strike Price के बाएं और दाएं लिखी होती है और यह मात्र कुछ पैसो से लेकर हजार से भी ऊपर की हो सकती है.

अगर आपको अच्छे से समझ नहीं आ रहा है तो चिंता मत कीजिये क्योंकि Youtube पर कई ऐसे Stock Trader हैं जिनसे आप Trading और Option Trading दोनों आसानी से सीख सकते हैं।

रेटिंग: 4.25
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 202