Additional Information

बिटकॉइन कैश क्या है?

Government Scheme For Farmers: सरकार किसानों के लिए चलाती है ये पांच बड़ी योजनाएं, जानिए किसमें क्या लाभ

Year Ender 2022: साल 2022 खत्म होने से पहले पैसों के सही मैनेजमेंट के लिए इन बातों का रखें ध्यान, नहीं होगी कोई परेशानी

Credit Card: सिर्फ कम सैलरी ही नहीं, इन वजहों से भी नहीं बनेगा आपका क्रेडिट कार्ड

बिजनेस वीडियो

Fund Ka Funda: सेक्टर फंड का क्या है फंडा? Expert से जानिए- कैसे करें सुरक्षित निवेश? | Full Episode

अबकी दीवाली महंगाई वाली ! आम आदमी को झटका. दूध से लेकर सब्जी तक सब महंगा

अबकी बार दीवाली पर महंगाई की मार ! कारोबार से लेकर रसोई तक कटेगी आम आदमी की जेब | Special Report

चेतन भगत का कॉलम: क्रिप्टो का खेल खत्म, पैसा ​​​​​​​कमाएं​​​​​​​ लेकिन मेहनत और धीरज से.

चेतन भगत अंग्रेजी के उपन्यासकार - Dainik Bhaskar

पिछले हफ्ते बिटकॉइन क्रैश हो गई। यह ओरिजिनल क्रिप्टोकरेंसी थी। पिछले साल ही इसकी कीमतों में 75 बिटकॉइन कैश क्या है? फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी। याद रहे एक समय था, जब बिटकॉइन को गोल्ड या यूएस डॉलर से भी ज्यादा मूल्यवान बताया गया था। दूसरी क्रिप्टोकरेंसी का हाल तो और बुरा है। उनमें से कई एक ही साल में 80 से 90 फीसदी गिर गईं।

कुछ का तो सफाया ही हो गया। क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करने वाले अधिकतर को बड़ा घाटा हुआ है। पिछले सप्ताह एफटीएक्स भी धड़ाम से गिरा। यह दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टो एक्सचेंज में से है। क्रैश का कारण था बड़े पैमाने पर कथित अनियमितताएं। जैसे कि कस्टमर डिपॉजिट्स को अनुचित तरीके से इस्तेमाल बिटकॉइन कैश क्या है? करके बिटकॉइन कैश क्या है? कम्पनी की खुद की क्रिप्टाकरेंसी एफटीटी टोकन को खरीदना।

एफटीएक्स के सीईओ सैम बैंकमैन-फ्राइड ने माफी मांगी है। साथ ही एफटीएक्स ने दिवालिया घोषित करने की बात कही है, जिससे उसकी 32 अरब डॉलर की वैल्यू का सफाया हो गया है। एफटीएक्स के ग्राहक, कर्मचारी और ऋणदाता जैसे कि लुप्त हो चुके हैं। यह एक संयोग ही था कि एफटीएक्स हाल ही में समाप्त हुए टी-20 विश्व कप के प्रायोजकों में से एक था।

तो हम मान सकते हैं कि क्रिप्टो का खेल अब खत्म हो गया है। लेकिन इस बात की पड़ताल करना दिलचस्प होगा कि आखिर वह दुनिया की सबसे बड़ी ठगी कैसे बना। यह मनुष्यों के लिए भी एक सबक है कि हमें कितनी आसानी से मूर्ख बनाया जा सकता है। चेतावनियां पहले से ही दी जा रही थीं।

वॉरेन बफेट कह चुके थे कि वे पूरी दुनिया की बिटकॉइन को 25 डॉलर में भी नहीं खरीदेंगे। चूंकि इसका कोई उपयोग नहीं है, इसलिए इससे छुटकारा पाने के लिए इसे किसी को बेचना ही होता है। क्रिप्टोकरेंसी का सच में ही कोई प्रयोजन या उपयोगिता नहीं होती, इसके बावजूद वो कैसे बूम हुई थीं!

मार्च 2017 से मार्च 2021 के बीच ही क्रिप्टो में 5,500 फीसदी का इजाफा हो गया था! इंस्टाग्राम पर क्रिप्टो-मिलियनेयर्स भरे पड़े थे, जो याट और लैम्बोर्गिनी खरीद रहे थे। लेख लिखे जा रहे थे, जिनमें इस नए एसेट-क्लास के बारे में बातें की जा रही थीं। क्रिप्टो को अधिक नैतिक और पारदर्शी तक बताया गया था।

क्रिप्टो के गुब्बारे को एक सुई की दरकार थी। फुग्गा फूट गया है। क्या सच में ही आप अपने जीवनभर की पूंजी बहामा में बैठे किसी ऐसे आदमी के हाथों में सौंप देना चाहते थे, जो नियंत्रण-मुक्त है? क्रिप्टो अब लौटकर नहीं आने वाली। सरकारें नोट की तरह इन्हें छाप नहीं सकती थीं। ये कहा जा रहा था कि अगर ईश्वर की कोई मुद्रा होती तो वह क्रिप्टो ही हो सकती थी। इस कारण क्रिप्टो ने लाखों लोगों का ध्यान खींचा। बिटकॉइन मेनस्ट्रीम बन गई। मीडिया उसका पीछा करने लगा। फाइनेंस बाजार में मौजूद हर व्यक्ति का एक क्रिप्टो-नजरिया या क्रिप्टो-रणनीति रहने लगी। तब इस पर संदेह करना कठिन था।

इन पंक्तियों के लेखक ने जब क्रिप्टो में निहित खतरों पर बात की, तो बेरहमी से उसे ट्रोल किया गया। क्रिप्टो में इतना पैसा आ रहा था कि उन्हें मध्यस्थ-फर्में बनानी पड़ीं, जो खुद को एक्सचेंज कहती थीं। ये वास्तव में अटकलों के कैसिनो थे। इनमें से कुछ भी रेगुलेटेड नहीं था, फिर भी लोगों ने उसमें भरोसा कर पैसा लगाया।

ठगों ने क्रिप्टो के प्रति आकर्षण का लाभ उठाया और हजारों करेंसीज़ लॉन्च की गईं। सेलेब्रिटी ब्रांड एम्बेसेडर मैदान में उतारे गए। एचओडीएल (होल्ड ऑन टु डियर लाइफ) जैसे टर्म ईजाद किए गए, जिसका मतलब था कि चाहे बाजार कितना भी गिरे, कभी करेंसी मत बेचो।

जिन लोगों ने इसमें अपना सबकुछ दांव पर लगा दिया था, वो आज खाली हाथ बैठे हुए हैं। इन मायनों में क्रिप्टो कम्युनिज्म की तरह है, जो वादा तो करता है विकेंद्रीकरण के जरिए लोगों को ताकत देने का, लेकिन अंतत: सत्ता चंद लोगों के ही हाथ में रहती है।

जिन लोगों को लगता है कि सरकार ही झगड़े की जड़ होती है, वे क्रिप्टो से इसलिए आकर्षित हुए थे कि वह सरकारी नियंत्रण से मुक्त है और अंतत: ठगे गए। क्योंकि जब सरकार का नियंत्रण नहीं होता है तो शातिर ठग अपना खेल शुरू कर देते हैं। भले ही हमारा मौजूदा सिस्टम परफेक्ट न हो, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हम खुद को अनरेगुलेटेड धोखाधड़ियों के हवाले कर दें। बिटकॉइन के बजाय हमें थोड़े कॉमन-सेंस-कॉइन्स की जरूरत है!

याद रखें कि निवेश एक बोरिंग काम है। इसमें नतीजे आने में समय लगता है। क्विक-मनी जैसी कोई चीज नहीं होती। यंग और कूल होने भर से कोई चीज अच्छा निवेश नहीं हो जाती। वैल्यू का महत्व है। रीयल एसेट का महत्व है।

कैश जनरेशन का महत्व है। किसी चीज की कोई उपयोगिता होनी चाहिए। नियम-कायदे और सरकारी नियंत्रण जरूरी हैं। पैसा कमाइए, लेकिन मेहनत से। इनोवेटिव बनिए, कस्टमर्स की जरूरतें पूरी कीजिए, कमाइए-बचाइए-निवेश कीजिए। लॉन्ग-टर्म में यही नीति काम आती है।
(ये लेखक के अपने विचार हैं।)

बिटकॉइन, D.A.S.H., एथेरियम, मोनारो, लाइटकॉइन और जेड-कैश जैसी क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करके परियोजनाओं के लिए धन जुटाने के अनियमित साधनों को ________ नाम दिया गया है।

Additional Information

  • बिटकॉइन, पहली बार 2009 में ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में जारी किया गया, यह पहला विकेन्द्रीकृत क्रिप्टोकरेंसी है। बिटकॉइन के जारी होने के बाद से, कई अन्य क्रिप्टोकरेंसी बनाई गई हैं।
    • 1983 में, अमेरिकी क्रिप्टोग्राफर डेविड चाउम ने एक अनाम क्रिप्टोग्राफिक इलेक्ट्रॉनिक मनी की कल्पना की, जिसे ईकैश कहा जाता है।
    • 1998 में, वेई दई ने बी-मनी का विवरण प्रकाशित किया, जिसे एक अनाम, वितरित इलेक्ट्रॉनिक नकदी प्रणाली के रूप में चित्रित किया गया था।
    • जून 2021 में, अल सल्वाडोर बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार करने वाला पहला देश बन गया।

    Important Points

    • इनिशियल, कॉइन ऑफरिंग:
      • एक इनिशियल, कॉइन ऑफरिंग बिटकॉइन कैश क्या है? या प्रारंभिक करेंसीक्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करने वाला एक प्रकार का वित्तपोषण है। यह अक्सर क्राउडफंडिंग का एक रूप है, हालांकि एक निजी ICO जो सार्वजनिक निवेश की तलाश नहीं करता है, वह भी संभव है।
      • ​डिजिटल करेंसी (डिजिटल मनी, इलेक्ट्रॉनिक मनी, या इलेक्ट्रॉनिक करेंसी) कोई भी करेंसी, मुद्रा या मुद्रा जैसी परिसंपत्ति है, जिसे मुख्य रूप से डिजिटल कंप्यूटर सिस्टम, विशेषकर इंटरनेट पर प्रबंधित, संग्रहित या विनिमय किया जाता है।
      • डिजिटल मुद्राओं के प्रकारों में क्रिप्टोकरेंसी, आभासी मुद्रा और केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा शामिल हैं।

      Share on Whatsapp

      Last updated on Dec 23, 2022

      The RRB Group D Results & Cut-Off declared बिटकॉइन कैश क्या है? on 22nd & 23rd December 2022! The exam was conducted from 17th August to 11th October 2022. The RRB (Railway Recruitment Board) is conducting the RRB Group D exam to recruit various posts of Track Maintainer, Helper/Assistant in various technical departments like Electrical, Mechanical, S&T, etc. The selection process for these posts includes 4 phases- Computer Based Test Physical Efficiency Test, Document Verification, and Medical Test.

      क्‍या आपने भी खरीदा था 2010 में बिटकॉइन? जानिए कितना दे चुकी है रिटर्न

      2017 से अब तक बिटकॉइन दुनिया की दूसरी क्रिप्‍टोकरेंसी मुकाबले काफी ज्‍यादा उतार-चढाव देखने को मिल चुका है। बिटकॉइन कैश क्या है? बीते चार महीने की बात करें तो 53 फीसदी टूटने के बाद एक हफ्ते में 32 फीसदी का उछाल किसी से छिपा नहीं है।

      क्‍या आपने भी खरीदा था 2010 में बिटकॉइन? जानिए कितना दे चुकी है रिटर्न

      बुधवार को क्रिप्‍टोकरेंसी मार्केट में रिकवरी देखने को मिल रही है। आज बिटक्‍वाइन की कीमत में 16 फीसदी का उछाल देखने को मिला है। ( Photo by बिटकॉइन कैश क्या है? REUTERS/Dado Ruvic/Illustration/File Photo )

      बीते कुछ समय से बिटकॉइन फिर से फोकस में है। 16 अप्रैल से 21 जुलाई के बीच अपने चरम से करीब 53 फीसदी गिरने के बाद महज एक हफ्ते में इसकी कीमतों में 32 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। दुनिया की सबसे बडी क्रिप्‍टोकरेंसी बिटकॉइन की कीमतें अत्यधिक अस्थिर रही हैं। 2009 में पहली बार लॉन्च होने के बाद से इसमें कई उतार-चढ़ाव आए हैं। बिट्कॉइन की लांचिंग से बने रहने वाले निवेशकों ने अब तक अविश्वसनीय लाभ प्राप्त किया है। उदाहरण के लिए, यदि आपने 2010 के मध्य में बिटकॉइन में निवेश किया था, तो बिटकॉइन कैश क्या है? आपका बिटकॉइन कैश क्या है? रिटर्न अरबों में हो सकता है, क्योंकि बिटकॉइन का शुरुआती मूल्‍य 0 डॉलर के करीब था।

      देर से निवेश करने वालों को भी मिला बडा रिटर्न : यदि आपने बिटकॉइन में थोड़ी देर बाद निवेश करने का फैसला किया है, उदाहरण के लिए तीन या पांच साल बाद, और कीमतों में उतार-चढ़ाव इसी तरह से जारी रहा तो आपको क्रमशः 174 प्रतिशत और 224 प्रतिशत का वार्षिक रिटर्न अर्जित होगा। वहीं आपने अगर और देर बाद बिटकॉइन में निवेश किया है, यानी पिछले ही आपने इसमें कदम रखा है तो भी आपको एक साल में 411 फीसदी का जबरदस्‍त रिटर्न हासिल किया है।

      पिछले साल बिटकॉइन की कीमतें क्यों बढ़ीं? : बिटकॉइन के उछाल के पीछे एक मुख्य कारण पिछले साल आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला था। दूसरा कारण यह था कि कुछ बड़े संस्थानों ने बिटकॉइन का समर्थन करना शुरू कर दिया था। उदाहरण के लिए, पेपाल अब अपने उपयोगकर्ताओं को बिटकॉइन खरीदने और बेचने की अनुमति देता है। यह अपने ग्राहकों को बिटकॉइन में भुगतान करके 26 मिलियन विक्रेताओं के अपने नेटवर्क से आइटम खरीदने की अनुमति देता है।

      Gujarat: AAP सिर्फ वोट कटवा बनकर रह गई- आप विधायक ने BJP को दिया समर्थन तो सोशल मीडिया पर केजरीवाल पर ऐसे कसे गए तंज

      Happy New Year 2023: शिव और अमृत योग में शुरू होगा नया साल, इन 3 राशियों के शुरू होंगे अच्छे दिन, हर कार्य में सफलता के योग

      Himachal Pradesh Result: किसी से नहीं डरती…, हिमाचल की अकेली महिला विधायक रीना कश्यप बोलीं- कोई दबा नहीं सकता आवाज

      2010 से अब तक बिटकॉइन का हाल : – अगस्‍त 2010 में बिटकॉइइन के दाम 0.3 डॉलर पर थे।
      – नवंबर 2013 में पहली बार बिटकॉइन ने 1000 डॉलर के स्‍तर को पार किया था।
      – दिसंबर 2017 को बिटकॉइन के दाम 19800 डॉलर पर आ गए थे।
      – उसके बाद बिटकॉइन में लगातार उतार चढाव आता रहा और मार्च 2020 में बिटकॉइन के दाम क्रैश होकर 3870 डॉलर पर आए थे।
      – यहां से फिर बिटकॉइन की शुरुआत हुई और एक साल में बिटकॉइन की कीमत यानी अप्रैल 2021 में 65000 डॉलर के आसपास पहुंच गई।
      – उसके बाद बिटकॉइन करीब तीन महीने में 53 फीसदी तक टूट गया।
      – करीब एक हफ्ते में बिटकॉइन के दाम में 32 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है।

      क्या बिटकॉइन में निवेश करने में बहुत देर हो चुकी है? : क्रिप्टोकुरेंसी एक्सचेंज बिटबन्स के संस्थापक और सीईओ गौरव दहाके के अनुसार हालिया तेजी में, बिटकॉइन में विकसित निवेशकों से धन की अधिक आमद देख रहे हैं। यदि यह जारी रहता है, तो हम जल्द ही साल के अंत तक रिकॉर्ड उच्च स्तर को पार कर सकते हैं। लेकिन इस बात को बता पाना संभव नहीं है कि इसमें निवेश करने अभी सही समय बिटकॉइन कैश क्या है? है या नहीं। बिटकॉइन, अन्य सभी क्रिप्टोकरेंसी की तरह, सबसे अधिक अस्थिर निवेश है।

      समय-समय पर कीमत के गिरने के दौरान एकमुश्त राशि का निवेश करें, क्योंकि वे लंबे समय में आकर्षक रिटर्न दे सकते हैं। जब कीमतों में 5 फीसदी, 10 फीसदी और इसी तरह की गिरावट आती है तो क्रिप्टो एक्सचेंज जैसे वॉल्ड आपको एक सूचना भेजते हैं। मोबाइल ऐप पर अपडेट के लिए आपको कीमत में गिरावट की सूचना को प्रतिशत के साथ सेट करना होगा। यदि आप अपना नुकसान कम करना चाहते हैं और बाहर निकलना चाहते हैं तो यह आपको सचेत करता है।

      बिटकॉइन में कर सकते हैं एसआईपी : वैकल्पिक रूप से, आप बिटकॉइन में निवेश करने के लिए एक व्यवस्थित निवेश योजना यानी एसआईपी का ऑप्‍शन चुन सकते हैं। जोखिम को कम करने के लिए कई क्रिप्टोकरेंसी में निवेश में विविधता लानी होगी। कुल मिलाकर, आपको अपने पोर्टफोलियो का 5 फीसदी से अधिक क्रिप्टोकरेंसी में निवेश नहीं करना चाहिए।

      उत्तर कोरियाई हैकर्स ने 2017 से क्रिप्टो में $1.2B की चोरी की है

      उत्तर कोरिया द्वारा प्रायोजित हैकर्स ने 2017 के बाद से दुनिया भर से क्रिप्टोकरेंसी में अनुमानित 1.5 ट्रिलियन वॉन (1.2 बिलियन डॉलर) की चोरी की है। एपी न्यूज दक्षिण कोरिया की मुख्य गुप्तचर एजेंसी, नेशनल इंटेलिजेंस सर्विस (NIS) के हवाले से रिपोर्ट।

      NIS का मानना ​​​​है कि जब क्रिप्टो चोरी करने की बात आती है तो उत्तर कोरिया दुनिया में सर्वश्रेष्ठ में से एक है क्योंकि 2017 में संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक प्रतिबंधों को उसके परमाणु और मिसाइल परीक्षणों के बिटकॉइन कैश क्या है? जवाब में सख्त किए जाने के बाद देश ने साइबर अपराध पर अपना ध्यान केंद्रित किया।

      गुरुवार को एनआईएस साइबर सहयोग केंद्र के शुभारंभ की घोषणा करते हुए एक बयान में, एजेंसी ने कहा कि उत्तर कोरियाई हैकर्स विशेष रूप से विकेंद्रीकृत वित्त को लक्षित कर रहे थे ( डेफी ) प्लैटफॉर्म्स ने इस साल अकेले रैंसमवेयर और हैकिंग के अन्य खतरों से 800 बिलियन वॉन ($626 मिलियन) कमाए। उस राशि में से कथित तौर पर 78 मिलियन डॉलर दक्षिण कोरिया से आए हैं।

      दक्षिण कोरिया भी वेब3 अंतरिक्ष में विभिन्न हमलों के संपर्क में था, जिसमें मेटावर्स और अपूरणीय टोकन शामिल हैं ( एनएफटी ), एनआईएस ने कहा, इस साल नवंबर में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय हैकिंग संगठनों द्वारा 1.18 मिलियन हमलों को रोक दिया गया।

      क्रिप्टो फंडिंग उत्तर कोरिया

      स्थानीय समाचार एजेंसी के अनुसार, उत्तर कोरिया अपने परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों को निधि देने में मदद करने के लिए कथित तौर पर चोरी की गई क्रिप्टोकरंसी का उपयोग कर रहा है योनहाप. फरवरी में, संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट ने यह भी संकेत दिया कि सन्यासी साम्राज्य के मिसाइल कार्यक्रम साइबर हमले से होने वाले राजस्व पर बहुत अधिक निर्भर करते हैं।

      अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने अगस्त में अमेरिकियों को एथेरियम सिक्का मिक्सर का उपयोग करने से प्रतिबंधित करते समय इन राज्य-प्रायोजित साइबर हमलों की सहायता करने में टोर्नाडो कैश की भूमिका का भी हवाला दिया।

      पिछले महीने, फेड ने प्रोटोकॉल के खिलाफ अपने प्रतिबंधों को अद्यतन किया, “अतिरिक्त जानकारी” को ध्यान में रखते हुए एथेरियम मिक्सिंग टूल कथित तौर पर डीपीआरके की गतिविधियों का समर्थन करने में खेला।

      बदनाम उत्तर कोरिया का राज्य प्रायोजित साइबर क्रिमिनल ग्रुप लाजर इस साल मार्च में स्काई मेविस के एथेरियम साइडचेन रोनिन के $622 मिलियन हैक से जुड़ा था।

      हार्मनी के होराइजन ब्रिज पर 100 मिलियन डॉलर के छापे में लाजर प्रमुख संदिग्ध था, हार्मनी को एथेरियम, बिनेंस चेन और बिटकॉइन से जोड़ने वाला एक क्रॉस-चेन ब्रिज था।

      एनआईएस ने कहा कि उत्तर कोरिया ने अपने परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों पर अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के विरोध में अपने साइबर खतरों और अन्य ऑनलाइन हमलों को तेज कर दिया है।

      एजेंसी ने यह भी चेतावनी दी है कि उत्तर कोरियाई हैकर्स अगले साल और अधिक साइबर हमले कर सकते हैं ताकि उन्नत दक्षिण कोरियाई तकनीकों और दक्षिण कोरियाई विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा पर गोपनीय जानकारी चुरा सकें।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 839