भारत में इनसाइडर ट्रेडिंग रेगुलेशन 2015 में सेबी द्वारा इनसाइडर ट्रेडिंग को रेगुलेट किया गया है।जिसमे उपरोक्त सभी गैरकानूनी तरीके से शेयर बाजार से शेयर्स की खरीद फरोख्त करके उनसे पैसे कमाने के उद्देश्य के कारणों से सेबी रेगुलेशन नियमों के उल्लंघन पाए जाने पर किसी व्यक्ति विशेष या संस्थाओं को कैपिटल मार्केट में ट्रेडिंग करने से रोक सकता है।

KFin Technologie IPO Will Issue On 19 December, See Details

आपका पैसा हमारे पास सुरक्षित है.

एम्पोरियम कैपिटल में, ट्रस्ट, पारदर्शिता और सुरक्षा वह नींव है जिस पर हम बनाए गए थे। हमने एक विशेषत रूप से सुरक्षित और उपयोग में आसान मंच विकसित किया है। आपके खाते, ट्रेड और फंड हमारे साथ सुरक्षित हैं. विशेषतः

slideshow-image

विश्व के अग्रणि CFD ब्रोकर

EMPORIUM CAPITAL में हम, मार्किट के अग्रणि फॉरेक्स, स्टॉक्स, ऊर्जा, मूल्यवान धातुएँ, और मार्किट की कुछ सर्वोत्तम ट्रेडर्स वे रेगुलेशन ट्रेडिंग स्थितियों के साथ क्रिप्टोकरेंसी ट्रेड उपलब्ध कराने के लिए अपने आप पर गर्व महसूस करते हैं।

slideshow-image

आप जो कुछ भी जानना चाहते हैं, एक ही स्थान पर है

एम्पोरियम कैपिटल हमारे विशेषज्ञ विश्लेषकों द्वारा तैयार शैक्षिक सामग्री प्रदान करता है ताकि आप बेहतर व्यापार कर सकें.
चाहे वह व्यापार करना हो या खाता खोलना हो, हमने आपको कवर किया.
साइन अप करें और वह व्यापारी बनें जय से आप बनना चाहते हो.

slideshow-image

आप जो कुछ भी जानना चाहते हैं, एक ही स्थान पर है

एम्पोरियम कैपिटल हमारे विशेषज्ञ विश्लेषकों द्वारा तैयार शैक्षिक सामग्री प्रदान करता है ताकि आप बेहतर व्यापार कर सकें.
चाहे वह ट्रेडर्स वे रेगुलेशन व्यापार करना हो या खाता खोलना हो, हमने आपको कवर किया.
साइन अप करें और वह व्यापारी बनें जय से आप बनना चाहते हो.

slideshow-image

ट्रिलियन

फॉरेक्स की प्रतिदिन मात्रा (औसतन)

ट्रिलियन

इक्विटीज की वार्षिक मात्रा (औसतन)

ट्रिलियन

सोने की वार्षिक मात्रा (औसतन)

बिटकॉइन की रोजाना मात्रा (औसतन)

slideshow-image

इनसाइडर ट्रेडिंग एवं सेबी द्वारा रोकने के लिए उठाए गए कदम।

जब भी किसी कंपनी के कर्मचारी गलत तरीके से कंपनी के शेयर्स की खरीद बिक्री करते हुए मुनाफा कमाते हैं तो इसे ही इनसाइडर ट्रेडिंग कहा जाता है। यह विशेषकर कंपनी की किसी गोपनीय या संवेदनशील जानकारी के आधार पर किया जाता है और कर्मचारियों को यह पहले से मालूम होता है कि आने वाले समय में कंपनी के शेयर्स के भाव बढ़ेंगे या गिरेंगे।

जैसे कि किसी एक कंपनी का किसी दूसरे कंपनी के साथ मर्जर या विलय ट्रेडर्स वे रेगुलेशन होने वाला है, या कंपनी का प्रमोटर अपने शेयर्स को गिरवी रखकर लोन लेती है जिसकी जानकारी कंपनी के प्रबंधन कर्मचारियों को पहले से हो जाती है। वे लोग डील अनाउंस होने से पहले ही अपने किसी करीबी या रिश्तेदार के नाम से कंपनी के शेयर्स खरीद लेते हैं और ताकि डील कंप्लीट होने के बाद शेयर्स के दाम बढ़े तो इन्हे बेचकर मुनाफा कमाया जा सके।

फॉरवर्ड कॉन्ट्रैक्ट्स रेगुलेशन बिल क्या है?

बिल पास होने पर क्या होंगे बदलाव?

सेबी की तरह एफएमसी को भी एक्सचेंज से फंड जुटाने उन्हें मान्यता देने या खारिज करने का अधिकार होगा। एफएमसी अभी कंसॉलिडेटेड फंड ऑफ इंडिया पर निर्भर है। एकबार यह बिल पास हो जाए, तो वह एक्सचेंज पर होने वाले डील और ब्रोकरों से भी फंड जुटा सकता है। एफएमसी को पेनाल्टी लगाने का भी अधिकार होगा, जो अभी नहीं है। एक मजबूत रेगुलेटर के तौर पर एफएमसी, इंस्टीट्यूशनल प्लेयर्स की एंट्री का फ्रेमवर्क तैयार कर सकेगा, जो बड़े कॉरपोरेट्स के लिए काउंटरपार्टीज का काम करेंगे।

कई साल से बिल पास होने का इंतजार

बिल को सबसे पहले 2003-2004 में राज्यसभा में पेश किया गया था, लेकिन तब लोकसभा भंग हो जाने के कारण यह पास नहीं हो पाया था। जनवरी 2008 में पास अध्यादेश की अवधि खत्म होने के बाद इसे संसद में पेश नहीं किया जा सका। कमोडिटी मार्केट अब तक इसके पास होने का इंतजार कर रहा है।

इनसाइडर ट्रेडिंग एवं सेबी द्वारा रोकने के लिए उठाए गए ट्रेडर्स वे रेगुलेशन ट्रेडर्स वे रेगुलेशन कदम।

जब भी किसी कंपनी के कर्मचारी गलत तरीके से कंपनी के शेयर्स की खरीद बिक्री करते हुए मुनाफा कमाते हैं तो इसे ही इनसाइडर ट्रेडिंग कहा जाता है। यह विशेषकर कंपनी की किसी गोपनीय या संवेदनशील जानकारी के आधार पर किया जाता है और कर्मचारियों को यह पहले से मालूम होता है कि आने वाले समय में कंपनी के शेयर्स के भाव बढ़ेंगे या गिरेंगे।

जैसे कि किसी एक कंपनी का किसी दूसरे कंपनी के साथ मर्जर या विलय होने वाला है, या कंपनी का प्रमोटर अपने शेयर्स को गिरवी रखकर लोन लेती है जिसकी जानकारी कंपनी ट्रेडर्स वे रेगुलेशन के प्रबंधन कर्मचारियों को पहले से हो जाती है। वे लोग डील अनाउंस होने से पहले ही अपने किसी करीबी या रिश्तेदार के नाम से कंपनी के शेयर्स खरीद लेते हैं और ताकि डील कंप्लीट ट्रेडर्स वे रेगुलेशन होने के बाद शेयर्स के दाम बढ़े तो इन्हे बेचकर मुनाफा कमाया जा सके।

हो सकता है बड़ा फैसला

नॉट ने जी20 वित्त मंत्रियों को लिखे एक पत्र में कहा है कि वित्तीय स्थिरता के लिए वे ट्रेडर्स वे रेगुलेशन जो जोखिम पैदा करते हैं, उसके खतरे जल्द ही सामने आ सकते हैं। एफएसबी ने क्रिप्टोकरेंसी फर्मों पर निगरानी​​, जोखिम और डाटा प्रबंधन के लिए एक रूपरेखा तैयार करने की सिफारिश की है। यह नियमों का उल्लंघन करने वाली क्रिप्टोकरंसी फर्मों को बंद करने भी योजना बना रही है। कोशिश यह है कि लेनदेन की गतिविधि के लिए एक ही जैसा नियम बनाया जाना चाहिए, चाहे वह क्रिप्टोएसेट कंपनी हो या बैंक।

2023 के मध्य तक अंतिम रूप दिए जाने से पहले प्रस्तावों को 15 दिसंबर तक सार्वजनिक परामर्श के लिए रखा गया है। एवॉचडॉग ने कहा कि अधिकांश मौजूदा स्टॉक इसके मार्गदर्शन को पूरा नहीं करते हैं।

रेटिंग: 4.75
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 241