Important Points

Stock Market क्या है?

एक शेयर बाजार, इक्विटी बाजार, या शेयर बाजार शेयरों के खरीदारों और विक्रेताओं का एकत्रीकरण है (जिन्हें शेयर भी कहा जाता है), जो व्यवसायों पर स्वामित्व के दावों का प्रतिनिधित्व करते हैं; इनमें सार्वजनिक स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध प्रतिभूतियां शामिल हो सकती हैं, साथ ही स्टॉक जो केवल निजी तौर पर कारोबार किया जाता है, जैसे निजी कंपनियों के शेयर जो इक्विटी क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से निवेशकों को बेचे जाते हैं। शेयर बाजार में निवेश अक्सर स्टॉक ब्रोकरेज और इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से किया जाता है। निवेश आमतौर पर निवेश की रणनीति को ध्यान में रखकर किया जाता है।

स्टॉक मार्केट क्या है? [What is Stock Market? In Hindi]

शेयर बाजार बाजारों और एक्सचेंजों के संग्रह को संदर्भित करता है जहां सार्वजनिक रूप से आयोजित कंपनियों के शेयरों की खरीद, बिक्री और जारी करने की नियमित गतिविधियां होती हैं। इस तरह की वित्तीय गतिविधियों को संस्थागत औपचारिक एक्सचेंजों या ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) मार्केटप्लेस के माध्यम से संचालित किया जाता है जो नियमों के एक परिभाषित सेट के तहत काम करते हैं। किसी देश या क्षेत्र में कई स्टॉक ट्रेडिंग वेन्यू हो सकते हैं जो स्टॉक और अन्य प्रकार की प्रतिभूतियों में लेनदेन की अनुमति देते हैं।

जबकि दोनों शब्द - स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज - का परस्पर उपयोग किया जाता है, बाद वाला शब्द आम तौर पर पूर्व का सबसेट होता है। यदि कोई कहता है कि वह शेयर बाजार में व्यापार करती है, तो इसका मतलब है कि वह स्टॉक एक्सचेंज (ओं) के एक (या अधिक) पर शेयर/इक्विटी खरीदती है और बेचती है जो समग्र शेयर बाजार का हिस्सा हैं। में प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों में न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (एनवाईएसई), नैस्डैक और शिकागो बोर्ड विकल्प एक्सचेंज (सीबीओई) शामिल हैं। ये प्रमुख राष्ट्रीय एक्सचेंज, देश में संचालित कई अन्य एक्सचेंजों के साथ, यू.एस. का शेयर बाजार बनाते हैं।

हालांकि इसे स्टॉक मार्केट या इक्विटी मार्केट कहा जाता है और मुख्य रूप से ट्रेडिंग स्टॉक / इक्विटी के लिए जाना जाता है, अन्य वित्तीय प्रतिभूतियों - जैसे एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ), कॉरपोरेट बॉन्ड और स्टॉक, कमोडिटीज, मुद्राओं और बॉन्ड पर आधारित डेरिवेटिव - का भी कारोबार होता है। शेयर बाजारों में।

शेयर बाजार के उद्देश्य - पूंजी और निवेश आय [Objectives of the stock market - capital and investment income] [In Hindi]

शेयर बाजार दो बहुत ही महत्वपूर्ण उद्देश्यों को पूरा करता है। पहला है कंपनियों को पूंजी प्रदान करना जिसका उपयोग वे अपने कारोबार को निधि देने और विस्तार करने के लिए कर सकते हैं। यदि कोई कंपनी स्टॉक के एक मिलियन शेयर जारी करती है जो शुरू में $ 10 प्रति शेयर के लिए बेचती है, तो वह कंपनी को $ 10 मिलियन की पूंजी प्रदान करती है जिसका उपयोग वह अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कर सकती है (जो भी शुल्क कंपनी एक निवेश बैंक के लिए स्टॉक का प्रबंधन करने के लिए भुगतान करती है) भेंट)। विस्तार के लिए आवश्यक पूंजी उधार लेने के बजाय स्टॉक शेयरों की पेशकश करके, कंपनी कर्ज लेने और उस कर्ज पर ब्याज शुल्क का भुगतान करने से बचती है।

शेयर बाजार का दूसरा उद्देश्य निवेशकों को देना है - जो स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है स्टॉक खरीदते हैं - सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के मुनाफे में हिस्सा लेने का अवसर। निवेशक दो तरीकों में से एक में स्टॉक खरीदने से लाभ उठा सकते हैं। कुछ स्टॉक नियमित लाभांश का भुगतान करते हैं (किसी के पास स्टॉक के प्रति शेयर की दी गई राशि)। दूसरे तरीके से निवेशक स्टॉक खरीदने से लाभ प्राप्त कर सकते हैं यदि स्टॉक की कीमत उनके खरीद मूल्य से बढ़ जाती है तो लाभ के लिए अपने स्टॉक को बेचकर। उदाहरण के लिए, यदि कोई निवेशक किसी कंपनी के शेयर के शेयर $ 10 प्रति शेयर पर खरीदता है और स्टॉक की कीमत बाद में $ 15 प्रति शेयर हो जाती है, तो निवेशक अपने शेयरों को बेचकर अपने निवेश पर 50% लाभ का एहसास कर सकता है।

Stock Market क्या है?

शेयर बाजार के प्रकार [Type of Share Market In Hindi]

  • प्राथमिक शेयर बाजार (Primary Share Market)

यह प्राथमिक बाजार (Primary Market) में है कि कंपनियां अपने शेयर जारी करने और धन जुटाने के लिए खुद को पंजीकृत करती हैं। इस प्रक्रिया को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग के रूप में भी जाना जाता है। प्राथमिक बाजार में प्रवेश करने का उद्देश्य धन जुटाना है और यदि कंपनी पहली बार अपने शेयर बेच रही है तो इसे प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) कहा जाता है। इस प्रक्रिया के माध्यम से, कंपनी एक सार्वजनिक इकाई बन जाती है।

  • द्वितीयक बाजार (Secondary Market)

Primary Market में नई प्रतिभूतियों के बेचे जाने के बाद कंपनी के शेयरों का द्वितीयक बाजार (Secondary Market) में कारोबार होता है। इस तरह निवेशक अपने शेयर बेचकर बाहर निकल सकते हैं। द्वितीयक बाजार में होने वाले ये लेन-देन व्यापार कहलाते हैं। इसमें निवेशकों की एक-दूसरे से खरीदारी करने और सहमत मूल्य पर आपस में बेचने की गतिविधि शामिल है। एक दलाल एक मध्यस्थ है जो इन लेनदेन की सुविधा प्रदान करता है।

'शेयर बाजार' की परिभाषा [Definition of "Share Market"In Hindi]

यह एक ऐसा स्थान है जहां सार्वजनिक सूचीबद्ध कंपनियों के शेयरों का कारोबार होता है। Primary Market वह जगह है जहां कंपनियां पूंजी जुटाने के लिए प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) में आम जनता के लिए शेयर जारी करती हैं।

एक बार जब Primary Market में नई प्रतिभूतियां बेची जाती हैं, तो उनका द्वितीयक बाजार में कारोबार होता है - जहां एक निवेशक दूसरे निवेशक से मौजूदा बाजार मूल्य पर या जिस भी कीमत पर खरीदार और विक्रेता दोनों सहमत होते हैं, शेयर खरीदता है। द्वितीयक बाजार या स्टॉक एक्सचेंज नियामक प्राधिकरण द्वारा नियंत्रित होते हैं। भारत में, द्वितीयक और प्राथमिक बाजार भारतीय सुरक्षा और विनिमय बोर्ड (SEBI) द्वारा शासित होते हैं। Stochastic Oscillator क्या है?

एक स्टॉक एक्सचेंज स्टॉक ब्रोकरों को कंपनी के शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों का व्यापार करने की सुविधा देता है। किसी स्टॉक को केवल तभी खरीदा या बेचा जा सकता है जब वह किसी एक्सचेंज में सूचीबद्ध हो। इस प्रकार, यह स्टॉक खरीदारों और विक्रेताओं का मिलन स्थल है। भारत के प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज हैं।

Stock Market : शेयर बाजार से मुनाफा पाना है तो अमल में लाएं कुछ जरूरी बातें

बाजार की परख, धैर्य की कुंजी के जरिए शेयर मार्केट की तिजोरी से कमाई को पंख लगाए जा सकते हैं. निवेश का तरीका क्या है और कौन सी सावधानियां अपनानी हैं, इसके कुछ मामूली टिप्स जानकार आप लाभ उठा सकते हैं.

By: एबीपी न्यूज़ | Updated at : 03 Jul 2021 10:31 PM (IST)

stock market : शेयर मार्केट में निवेश सिर्फ लाभ बनाना भर नहीं है. इसके लिए आपके पास सही स्टॉक चुनने की समझ भी जरूरी है. शेयर बाजारों में निवेश के साथ जोखिम भी काफी है, लेकिन इसके मुकाबले होने वाले बड़े लाभ नुकसान का असर कम कर देते हैं. दअसल, शेयर बाजार राष्ट्रीय वित्तीय एक्सचेंजों पर लिस्टेँड कंपनी के शेयरों की खरीद-बिक्री है. जब कोई कंपनी सार्वजनिक होती है तो वह अपने शेयर जनता को बिक्री के लिए जारी करती है, इन्हें खरीदने या बेचने वाले स्टॉक कारोबारी कहे जाते हैं. वे बाजार के जानकार होने के साथ यह भी समझते है कि अपने पैसे का सही निवेश कब और कहां करना चाहिए. स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग से पहले पुख्ता प्लानिंग जरूरी है.

निवेश से पहले यह करना जरूरी
सभी पेंडिंग लोन खत्म कर लें: शेयर बाजार में निवेश शुरू करने से पहले एहतियातन आपको अपने सभी हाई इंट्रेस्ट वाले लोन, जैसे पर्सनल, क्रेडिट कार्ड क्लीयरेंस आदि चुकता कर लेने चाहिए. जिससे क्रेडिट लायबिलिटी न हो.

एक्स्ट्रा सेविंग ही इंवेस्ट करें: स्मार्ट निवेश का एक जरूरी नियम है कि मार्केट में आप उसी बजट का
उपयोग करें, जो आपकी एक्स्ट्रा सेविंग है. ऐसी सूरत में आपको स्टॉक खरीदने के लिए कभी भी रकम उधार नहीं लेनी होगी. किसी दूसरी जरूरत के लिए रखा पैसा भी र्मोकेट में लगाना ठीक नहीं.

कुछ रकम बचाकर रखें: एक इमरजेंसी फंड भी मेनटेन करें. इसके लिए कुछ नगदी पूरी तरह अलग रखें. आप शेयर बाजार में सारा पैसा निवेश करते हैं, तो इमरजेंसी की सूरत में खुद को मुसीबत में डाल सकते हैं.

News Reels

लक्ष्य तय करना जरूरी
निवेश से पहले तय करिए कि लंबी अवधि के लिए निवेश कर हाई रिटर्न पाना चाहते हैं? या लाभांश के रूप में सिर्फ कमाई के लिए अलग सोर्स. ऐसे निवेश के लक्ष्य आपको समझने में मदद करेंगे कि आपको निवेश कितना और कब तक करना चाहिए. वर्तमान वित्तीय स्थिति देखकर तय करें कि आप स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है एकमुश्त निवेश चाहते हैं या छोटे नियमित मासिक. एक छोटी राशि से शुरुआत करना ही समझदारी है, जिसे समय के साथ आप धीरे-धीरे बढ़ा सकते हैं.

ट्रेडिंग खाता खोलें
शेयर बाजार में निवेश के लिए ब्रोकर रख सकते हैं या ट्रेडिंग खाता बना सकते हैं, जो आपको खुद ऑपरेट करने की छूट देगा. निवेश के लिए एक बजट तय कर लें औ तय करें कि आप दिन के दौरान कारोबार करते समय उसी बजट को उपयोग करें.

खुद की नॉलेज बढ़ाएं
नियमित शेयर बाजार के कामकाज के बारे में पढ़ें, उन कंपनियों की चेकलिस्ट रखें, जिनमें आपकी रुचि है. उनकी परफार्मेंस के लिए स्टॉक चेक करें. समय के साथ जैसे-जैसे आप अधिक से अधिक कारोबार करेंगे, समझ जाएंगे कि अपने लक्ष्य के लिए बेहतर क्या है.

भावुकता नहीं तर्क से समझें
आप शेयर में निवेश शुरू करते हैं तो बेहद खुद दिमाग से फैसले लेने होंगे. यहां चीजें लगातार बदलती हैं. कठिन परिस्थितियों में आपको तर्कशीलता से काम करना चाहिए. कोई भी विशेषज्ञ आपको यही बताएगा कि कारोबार का पहला नियम है आपके दिमाग के साथ कारोबार करना है, न कि दिल के साथ.

जानिए क्या हैं स्टॉक ब्रोकर
यह दो तरह के होते हैं, पहला कम्लीट सर्विस ब्रोकर और दूसरा डिस्काउंट ब्रोकर. कम्लीट सर्विस ब्रोकर पारंपरिक ब्रोकर हैं, जो शेयरों की खरीद-बिक्री, निवेश सलाह, वित्तीय योजना, पोर्टफोलियो मेंटेनेंस, बाजार रिसर्च-एनालिसिस आदि करते हुए अधिक से अधिक सेवाओं की विविधता देते हैं। ये आपकी जरूरत और वित्तीय लक्ष्य के अनुरूप पर्सनल टिप्स देकर निवेश सेवाएं देते हैं. वहीं डिस्काउंट ब्रोकर ऑनलाइन ब्रोकर हैं, जो नो-फ्रिल शेयर ब्रोकिंग खातों पर काम करते हैं। वे ग्राहक को पर्सनल सर्विस नहीं देते हैं. वे कम से कम संभव लागत पर जरूरी कारोबार सुविधा देते हैं। डिस्काउंट ब्रोकर चुनकर, आप कम ब्रोकरेज से भी मार्केट देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें:

Published at : 03 Jul 2021 10:31 PM (IST) Tags: Finance Budget Stock Market stock exchange company Return market profit listed amount broker caution buy-sell हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Lifestyle News in Hindi

Sovereign Gold Bond Scheme: 2022 में RBI का गोल्ड बॉन्ड खरीदने का आखिरी मौका, जानें- क्या आपको करना चाहिए निवेश?

Sovereign Gold Bond Scheme: 2022 में RBI का गोल्ड बॉन्ड खरीदने का यह आखिरी मौका है. ऑनलाइन आवेदन करने वाले और डिजिटल मोड के माध्यम से भुगतान करने वाले निवेशकों को नाममात्र मूल्य से कम 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट देने का निर्णय लिया है.

Published: December 19, 2022 10:34 AM IST

Sovereign Gold Bond Scheme.

Sovereign Gold Bond Scheme: सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2022-23 की अगली किस्त आज से पांच दिनों के लिए सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगी. सोने का इश्यू प्राइस 5,409 रुपये प्रति ग्राम तय किया गया है. भारतीय रिजर्व बैंक ने भारत सरकार की ओर से बांड जारी किया है.

Also Read:

कहां से खरीद सकते हैं SGB?

SGB को अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों (लघु वित्त बैंकों, भुगतान बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को छोड़कर), स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), क्लियरिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (CCIL), स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है नामित डाकघरों और स्टॉक एक्सचेंजों एनएसई और बीएसई के माध्यम से बेचा जाएगा.

ऑनलाइन खरीदारों के लिए डिस्काउंट

भारत सरकार ने, भारतीय रिजर्व बैंक के परामर्श से, ऑनलाइन आवेदन करने वाले और डिजिटल मोड के माध्यम से भुगतान करने वाले निवेशकों को नाममात्र मूल्य से कम 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट देने का निर्णय लिया है.

आरबीआई ने कहा, ‘ऐसे निवेशकों के लिए गोल्ड बॉन्ड स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है का इश्यू प्राइस 5,359 रुपए प्रति ग्राम सोना होगा.’

SGB खरीदने का अगला मौका कब आएगा?

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स (SGBs) 2022-23 सीरीज IV 06-10 मार्च, 2023 के दौरान सब्सक्रिप्शन के लिए खुलेगा, वित्त मंत्रालय ने गुरुवार को इसके बारे में जानकारी दी.

गोल्ड बांड की अवधि

बॉन्ड की अवधि आठ साल की होगी, जिसमें 5वें साल के बाद समय से पहले भुनाने का विकल्प स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है होगा, जिस तारीख को ब्याज देय होगा.

क्यों खरीदना चाहिए SGB?

जानकारों की राय है कि भौतिक सोने या डिजिटल सोने में निवेश करने की तुलना में एसजीबी में निवेश करना बेहतर विकल्प माना जाता है. यह योजना भारत सरकार द्वारा समर्थित है और आरबीआई द्वारा विनियमित है. निवेशकों को नाममात्र मूल्य पर अर्ध-वार्षिक देय 2.50 प्रतिशत प्रति वर्ष की निश्चित दर पर मुआवजा दिया जाएगा.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स पर टैक्स

SGB के लिए टैक्सेशन के लिए अलग-अलग नियम हैं. एसजीबी से होने वाला पूंजीगत लाभ, यदि परिपक्वता तक रखा जाता है तो यह टैक्स फ्री होता है. हालांकि, निवेशक पांच साल के बाद समय से पहले एसजीबी को रिडीम कर सकते हैं. यदि आप एसजीबी को पांच से आठ साल के बीच भुनाते हैं, तो लाभ को दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ माना जाता है. इंडेक्सेशन लाभ के साथ इस पर 20.8% (उपकर सहित) कर लगाया जाता है.

निवेशक स्टॉक एक्सचेंज पर सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीद और बेच सकते हैं. यदि एसजीबी को तीन साल से पहले बेचा जाता है, तो पूंजीगत लाभ निवेशक की आय में जोड़ा जाता है और लागू आयकर स्लैब के आधार पर कर लगाया जाता है. इसके अलावा, तीन साल के बाद स्टॉक एक्सचेंज पर एसजीबी बेचने पर निवेशकों द्वारा अर्जित पूंजीगत लाभ लंबी अवधि के होते हैं और इंडेक्सेशन लाभ के साथ 20% पर कर लगाया जाता है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

निम्नलिखित स्टॉक एक्सचेंजों में से कौन से सूचकांक का नाम 'सेंसेक्स' है?

Key Points

  • स्टॉक एक्सचेंज: स्टॉक एक्सचेंज एक बाज़ार है जहाँ कंपनियों द्वारा जारी वित्तीय प्रतिभूतियाँ जैसे शेयर, बॉन्ड, कमोडिटीज़ आदि खरीदे और बेचे जाते हैं।
  • पहला स्टॉक एक्सचेंज एम्स्टर्डम स्टॉक एक्सचेंज1602 में डच ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा स्थापित किया गया था। ( वेरीनिगेड ओस्टिन्डीशे कम्पैग्नी या वीओसी )।

Important Points

  • इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज लिमिटेड (आईसीईएक्स) की स्थापना 2008 में हुई थी, जिसका मुख्यालय मुंबई में था। आईसीईएक्स सूचकांक को 'आईसीईएक्समेन' नाम दिया गया है।
  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1875 में हुई थी, जिसका मुख्यालय मुंबई में था। बीएसई सूचकांक को 'सेंसेक्स - संवेदनशीलता सूचकांक' नाम दिया गया है।
  • कोलकाता में मुख्यालय कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1908 में हुई थी। सीएसई सूचकांक का नाम 'सीएसई40' है
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1992 में हुई थी, जिसका मुख्यालय मुंबई में था। एनएसई सूचकांक को 'निफ्टी50' नाम दिया गया है।

Share on Whatsapp

Last updated on Dec 2, 2022

The Defense Research & Development Organization (DRDO) has announced the cancellation of the DRDO CEPTAM MTS 2019-20. A total number of 1817 vacancies were released for the recruitment cycle 2019-20/MTS. The selection of the स्टॉक एक्सचेंज का कार्य,लाभ क्या है candidates for recruitment was based on two tiers. Tier-1 would be CBT (Computer Based Test) and Tier-2 would be Trade Test. After these two Tiers DRDO usually releases the Final Merit List. As the recruitment process is cancelled, the DRDO is soon going to release the official notification for the recruitment process of the 2022 cycle with an expected 1817 vacancies. Check the DRDO MTS Eligibility.

With hundreds of Questions based on Financial Markets, we help you gain expertise on Banking and Financial Awareness. All for free. Explore Testbook Learn to attain the subject expertise with us.

Stock Market

डीमैट अकाउंट (Demat Account) क्या होता है ? Demat Account कैसे खोले ?

हमारे देश में ऐसे बहुत से लोग है, जो बहुत ही कम समय में अधिक से अधिक धन अर्जित करना चाहते है | इसके लिए वह शेयर मार्केट में निवेश करते है, हालाँकि शेयर मार्केट में रिस्क काफी अधिक होता है | इसके बावजूद शेयर मार्किट में निवेश करनें वाले लोगो की संख्या में दिन-प्रतिदिन … Read more

ट्रेडिंग अकाउंट क्या होता है ? ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोला जाता है?

ट्रेडिंग अकाउंट का आशय एक ऐसे अकाउंट से है, जिसके माध्यम से निवेशक शेयर मार्केट में शेयर खरीदनें और बेचने के ऑर्डर स्टॉक एक्सचेंज पर भेजनें में सक्षम होते है | जब निवेशक दारा शेयर मार्केट में ट्रेडिंग की जाती है, तो उस दौरान धन जमा करनें और निकालने का कार्य बैंक अकाउंट के माध्यम … Read more

शेयर मार्किट या शेयर बाज़ार क्या है ? Stock OR Share Market Explained in Hindi

शेयर मार्केट के लेकर आम लोगो में यह धारणा होती है, कि यहाँ पर जितनें भी लोग पैसा इन्वेस्ट करते है, उनमें से ज्यादातर लोगो का पैसा डूब जाता है | जबकि ऐसा बिल्कुल भी नही है, यदि आपको शेयर मार्केट के बारे में अच्छी जानकारी है और आप इसमें अपना पैसा सोच समझकर पूरी … Read more

शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए ? Share Market में पैसा कैसे लगाए | Invest in Stock Market [Hindi]

प्रत्येक व्यक्ति के अपने कुछ सपने होते है और इन्हें पूरा करनें के लिए वह दिन-रात अधिक से अधिक से पैसा कमानें के बारें में सोंचते रहते है | वह सोंचते है, कि उन्हें कोई ऐसा रास्ता मिल जाए कि बहुत ही कम समय में धनवान बन जाये | हालाँकि धनवान बननें के ऐसे कई … Read more

एसआईपी (SIP) क्या है | SIP में इन्वेस्ट कैसे करे, और लाभ | सिप में रिटर्न | SIP Full Form in Hindi

वर्तमान समय में लोग स्टॉक मार्केट में पैसा लगाकर मालामाल हो रहे है | शेयर मार्केट में पैसे लगाने वाले लोगो को काफी अच्छा रिटर्न प्राप्त हो रहा है, जिस वजह से अब वह लोग भी इस मार्केट में निवेश करने लगे है, जो कभी शेयर मार्केट के नाम से भी दूर भागते थे | … Read more

आईपीओ (IPO) क्या होता है ? किसी भी कंपनी का IPO कैसे ख़रीदे – नियम व प्रक्रिया

किसी भी क्षेत्र में पैसा कमानें के लिए सबसे पहले हमें उसमें पैसा इन्वेस्ट करना होता है | आप किसी भी तरह का व्यवसाय शुरू करते है, तो उसमें पहले आपको पूँजी लगानी होती है | उसके बाद ही हम उससे पैसा प्राप्त करते है | वर्तमान समय में शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करने … Read more

पेट्रोल पंप कैसे खोले ? पेट्रोल पंप खोलने के लिए कितनी जमीन, पैसा चाहिए [आवेदन प्रक्रिया]

पेट्रोल पंप का व्यवसाय वैश्विक स्तर पर अधिक लाभ कमाने वाले प्रमुख व्यवसायों में से एक है | इसके पीछे का मुख्य कारण परिवहन और लॉजिस्टिक्स क्षेत्रों में पेट्रोल पंप की बढ़ती मांग है | यह एक ऐसा व्यवसाय है, जो सप्ताह के प्रत्येक 7 दिन और दिन के 24 घंटे चलता रहता है | … Read more

सेबी क्या है | कार्य | स्थापना | अधिकार | उद्देश्य | SEBI Full Form in Hindi

वर्तमान में दुनिया में 16 स्टॉक एक्सचेंज हैं, जिनका बाजार पूंजीकरण 1 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक है। जबकि न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (NYSE) पैरामीटर मार्केट कैपिटलाइज़ेशन के आधार पर दुनिया में पहले स्थान पर है | भारतीय पूंजी बाजार भी दुनिया के सबसे बड़े पूंजी बाजारों में से एक है। सेंसेक्स (Stock Exchange Sensitive Index) … Read more

डिविडेंड (Dividend) क्या होता है ? डिविडेंड या लाभांश कितने प्रकार के होते हैं ?

आपने कई बार लोगो को आपस में बातें करते सुना होगा, कि मैंने उस अमुख कम्पनी के शेयर ख़रीदे थे और अब उस कम्पनी के शेयर काफी महंगे हो चुके है अर्थात वह कम्पनी इस समय अच्छा लाभ कमा रही है | ऐसे में कम्पनी नें बदले में मुझे इतना डिविडेंड (Dividend) अर्थात लाभांश दिया … Read more

रेटिंग: 4.52
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 83