शेयरों में निवेश करने का अच्छा समय कब है?

Investment Tips: कहां निवेश करने पर पैसे हो जाएंगे डबल, जानिए निवेश का फॉर्म्यूला

Investment Tips: आप शेयर मार्केट, म्यूचुअल फंड या किसी सरकारी योजना में निवेश करें। जिससे पैसे फटाफट डबल हो जाएं। देखिए कुछ खास स्कीम

Investment Tips: आमतौर कोई भी निवेशक वहीं पैसे लगाते हैं, जहां उन्हें जोखिम कम और शानदार रिटर्न मिले। शेयर बाजार में जोखिम सबसे ज्यादा होता है। यहां कब पैसे पैसे दोगुना, तीन गुना चार गुना हो जाएं। कुछ पता नहीं है। शेयर बाजार में कब आपको झटका लग जाए। इसका भी कोई अनुमान नहीं है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि आखिर कहां निवेश करें। जिससे पैसे भी डबल हो जाएं और जोखिम भी काफी कम रहे।

अगर आप सुरक्षित निवेश की तलाश में है तो फिक्स्ड डिपॉजिट, पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि योजना, किसान विकास पत्र (केवीपी), नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (एनएससी) और नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) जैसी तमाम योजनाओं में पैसे जमा कर सकते हैं। यहां बेहतर ब्याज दर मिलती है।

निवेश के लिए अपनाएं यह फॉर्म्यूला

संबंधित खबरें

Fixed Deposit: कोटक महिंद्रा बैंक ने FD पर बढ़ाई ब्याज दरें, मिलेगा 7.50% तक रिटर्न, नई दरें आज से लागू

7th Pay Commission: नए साल से पहले सरकारी कर्मचारियों को मिला तोहफा, 12% बढ़ा DA और DR

Reliance Jio का सबसे सस्ता तगड़ा सालाना प्लान, 899 रुपये में मिलेगी 336 दिन की वैलिडिटी, अनलिमिटेड कॉल्स और SMS

अगर आप जानना चाहते हैं कि आपके पैसे को डबल होने में कितना समय लगेगा तो आप रूल ऑफ 72 फॉर्म्यूला अपना सकते हैं। अब सवाल यह उठता है कि आखिर यह कौन सा फॉर्म्यूला है? हम आपको इस फॉर्म्यूला के बारे में भी विस्तार से बताएंगे। इसे जानते ही आप समझ जाएंगे कि आपके पैसे को डबल होने में कितना समय लगेगा। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस फॉर्म्यूले के तहत आपको मिल रहे ब्याज को 72 से भाग देना होगा। मान लीजिए, आपने 4 फीसदी सालाना ब्याज दर है। ऐसे में आपको 72 में 4 का भाग देना होगा। इसका रिजल्ट 18 आएगा। इसका मतलब ये हुआ कि आपके पैसे को डबल होने में 18 महीने लगेंगे।

यहां कर सकते हैं निवेश

सुकन्या समृद्धि योजना: यह सरकारी स्कीम है। इसे खासतौर से बेटियों के लिए शुरू किया गया है। अगर आप अपनी बेटी के नाम पर सुकन्‍या खाता खुलवाते हैं तो 9.4 साल में आपका पैसा दोगुना हो जाएगा। मौजूदा समय में सुकन्‍या योजना में सालाना 7.6 फीसदी की दर से ब्‍याज मिल रहा है।

बैंक FD: रिजर्व बैंक के रेपो रेट बढ़ाने के बाद ज्यादातर बैंक अपनी एफडी की ब्‍याज दरों में इन्वेस्टमेंट कब शुरू करें? भी बढ़ोतरी कर रहे हैं। इस समय एफडी पर औसतन 6 फीसदी का ब्‍याज मिल रहा। ऐसे में यहां आपका पैसा डबल होने में करीब 12 साल लग जाएंगे।

PPF: पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी PPF भी निवेश के लिए बेहतर विकल्प है। इस पर अभी सालाना 7.1 फीसदी दर से ब्याज मिल रहा है। लिहाजा इसमें आपके पैसे दोगुना होने में 10.14 साल लगेंगे।

किसान विकास पत्र: किसान विकास पत्र योजना भी निवेश के लिहाज से बेहतर है। अभी इस योजना में सालाना 6.9 फीसदी की दर से गारंटीड ब्‍याज दर मिल रही है। ऐसे में 10.43 साल में आपके पैसे डबल हो जाएंगे।

MoneyControl News

MoneyControl News

First Published: Aug 24, 2022 10:52 AM

हिंदी में शेयर बाजार, Stock Tips, न्यूज, पर्सनल फाइनेंस और बिजनेस से जुड़ी खबरें सबसे पहले मनीकंट्रोल हिंदी पर पढ़ें. डेली मार्केट अपडेट के लिए Moneycontrol App डाउनलोड करें।

जानिए क्यों है म्यूचुअल फंड्स आपके लिए फायदे का मौका, कैसे और कब लगाएं पैसा, पढ़ें सभी सवालों के जवाब

आप Mutual Fund ब्रोकर या फिर डिस्ट्रीब्यूटर के ऑफिस पहुंच कर ऑफ लाइन तरीके से निवेश कर सकते हैं। इसमें भी आपको फार्म भर कर केवाईसी की शर्तों को पूरा करना होगा। आप म्यूचुअल फंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर घर बैठे स्कीम में निवेश कर सकते हैं.

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। निवेश एक ऐसी प्रकिया है जिसकी योजना तो सभी बनाते हैं लेकिन इस पर समय से फैसला बेहद कम ही लोग ले पाते हैं. दरअसल निवेश को लेकर लोगों के मन में इतने सवाल होते हैं कि इनका जवाब तलाशते तलाशते वक्त हाथ से निकल जाता है. अगर आप भी Mutual Fund में निवेश करने की योजना बना रहे हैं लेकिन अपने ही सवालों से परेशान हैं तो आज हम आपके सामने ऐसे 4 सबसे ज्यादा उठने वाले सवालों के जवाब लेकर आएं हैं. इन्हें पढ़ें और इससे पहले कि निवेश का सही वक्त निकल जाए आप फैसला लें और अपनी मेहनत की कमाई से अपना भविष्य बना लें.

PPF account pre maturity closure, Know all details

आज ही शुरू करें अपना शेयर मार्केट का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

क्यों करें म्यूचुअल फंड में निवेश?

ये सवाल सभी लोगों के दिमाग में सबसे पहले आता है। आप जानते ही हैं कि हर तरह के निवेश में कम या ज्यादा जोखिम रहता ही है, और निवेश पर रिटर्न इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितना जोखिम उठा रहे हैं. अक्सर ऊंचे रिटर्न के लालच में आम लोग अपनी बड़ी रकम गंवा देते हैं वहीं कुछ लोग रकम गंवाने के डर से बेहतर निवेश पाने की कोशिश ही नहीं करते और पारंपरिक निवेश विकल्पों में पैसा लगा देते हैं जो अक्सर बढ़ती महंगाई में नुकसान का सौदा बन जाते हैं। Mutual Fund आम निवेशकों के जोखिम को कम करता है और बेहतर रिटर्न देने की कोशिश करता है। म्यूचुअल फंड में आम लोग छोटी छोटी रकम से कम जोखिम के साथ निवेश की शुरुआत कर सकते हैं और आपके इस छोटे निवेश पर भी बाजार के एक एक्सपर्ट की लगातार नजर रहती है, जो पूरी कोशिश करता है कि आपका रिटर्न बाकी लोगों से ऊंचा रहे। वहीं निवेश क्यों करें, इस सवाल का जवाब पाने के लिए आप 5Paisa की भी मदद ले सकते हैं. 5paisa के एप या वेबसाइट पर जाकर आप म्यूचुअल फंड्स के प्रदर्शन पर नजर डाल सकते हैं वहीं इन स्कीम के फायदों की भी जानकारी ले सकते हैं. जिससे आपको ये समझने में काफी आसानी होगी कि एमएफ में क्यों निवेश किया जाना चाहिए .

किस म्यूचुअल फंड स्कीम में करें निवेश?

इस सवाल का जवाब पाने के लिए पहले आपको ये तय करना होगा कि आप आने वाले समय में इस रकम से क्या करना चाहते हैं. दरअसल MF scheme कई तरह की होती हैं और वे अलग अलग रिटर्न के आधार पर प्लान की जाती. यानि आपको सुरक्षित लेकिन एफडी से बेहतर रिटर्न चाहिए तो डेट फंड आपके लिए हैं. वहीं आप कम समय में तेज कमाई करना चाहते हैं लेकिन मार्केट में उतरने से डरते हैं तो आपके लिए इक्विटी आधारित कई स्कीम मौजूद है। बच्चों की पढ़ाई, उनकी शादी यहां तक कि कुछ सालों बाद फॉरेन ट्रिप के लिए भी Mutual Fund की मदद ले सकते हैं। आपको करना ये है कि पहले अपना जोखिम लेने का स्तर चुने और फिर अपनी जरूरत का कैलकुलेशन करें और फिर बाजार में रिसर्च करें.या फिर आप बाजार के किसी काबिल जानकार की भी मदद ले सकते हैं जो आपको आपका लक्ष्य हासिल करने के लिए सबसे अच्छे विकल्प बताएगा। 5Paisa भी आपको आपकी जरूरतों और जोखिम के स्तरों के आधार पर एमएफ स्कीम चुनने में मदद करता है. जिससे आप अपना रिटर्न बढ़ा सकते हैं। ये एक डीआईवाई प्लेटफार्म है यानि यहां आप सिर्फ निवेश ही नहीं करते बल्कि निवेश, रणनीतियों और बाजार को समझते और सीखते भी हैं जिसकी वजह से आप अपनी पूरी संतुष्टि के साथ फैसला लेने के लिए स्वतंत्र हो जाते हैं।

कब करें म्युचुअल फंड में निवेश?

MF scheme के रिटर्न पर इन्वेस्टमेंट कब शुरू करें? नजर डालें तो निवेशकों को इसका असली फायदा लंबी अवधि में दिखता है.वहीं लंबी अवधि का नजरिया लेकर चलने पर आप बेहद छोटी रकम को बढ़ता हुआ भी देखते हैं. अगर आप 5 Paisa के म्यूचुअल फंड कैलकुलेटर की मदद लेंगे तो आपको पता चलेगा कि कैसे लंबी अवधि में छोटी रकम बड़ी संपत्ति में बदल जाती है. और इससे आपको बाजार में समय पर निवेश के फायदे साफ दिखते हैं। बाजार के सभी जानकार मानते हैं कि म्यूचुअल फंड्स में इंश्योरेंस की तरह ही जितनी जल्दी हो निवेश की शुरुआत कर देनी चाहिए. दरअसल युवावस्था में खर्च सीमित किए जा सकते हैं. हालांकि जिम्मेदारी बढ़ने के साथ ये संभव नहीं होता। ऐसे में अगर आपकी नई जॉब लगी हो तो बेहतर है पहली सैलरी से मिठाई खरीदने के साथ एक mutual fund scheme में पैसा लगाना आपके लिए काफी फायदे का सौदा होगा। हालांकि आपने समय बीतने के साथ भी निवेश नहीं किया है तो भी जितनी जल्दी शुरुआत करने का फायदा उतना ज्यादा होगा।

कैसे करें म्युचुअल फंड में निवेश?

Mutual Fund में निवेश आप कई तरीकों से कर सकते हैं। आप जिस स्कीम में निवेश करना चाहते हैं उस स्कीम से जुड़े फंड हाउस में जाकर ऑफलाइन तरीके से निवेश कर सकते हैं। इसके लिए आपको पहले अपनी और स्कीम की पूरी जानकारियों के साथ फॉर्म भरना होगा और केवाईसी की शर्तें पूरी करनी होगी साथ ही चेक या डीडी के जरिए भुगतान करना होगा, अगर आप एसआईपी ले रहें हैं तो आपको कैंसिल चेक देने होंगे।

आप Mutual Fund ब्रोकर या फिर डिस्ट्रीब्यूटर के ऑफिस पहुंच कर ऑफ लाइन तरीके से निवेश कर सकते हैं। इसमें भी आपको फार्म भर कर केवाईसी की शर्तों को पूरा करना होगा। आप म्यूचुअल फंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर घर बैठे स्कीम में निवेश कर सकते हैं. यहां आपको ई-केवाईसी के लिए डाक्यूमेंटस अपलोड करने होंगे. पैसों का भुगतान ऑनलाइन किया जा सकता है। आप इसी तरह ब्रोकर की वेबसाइट पर भी जाकर निवेश कर सकते हैं।

कई fund house और broker app निवेश की सुविधा भी देती हैं. इसमें आपको एप डाउनलोड कर eKYC की शर्तों को पूरा करना होगा। 5paisa भी एक ऐसा ही ऐप है। जिसके जरिए शेयर बाजार और Mutual Fund में पैसा लगाने और निकलाने की सुविधा मिलती है. 5paisa देश का सबसे तेजी से बढ़ने वाला डिस्काउंट ब्रोकर ऐप है. एक करोड़ से ज्यादा लोग इस ऐप के साथ जुड़ चुके हैं. इसकी एक और खासियत है. यहां म्यूचुअल फंड में निवेश पर कोई कमीशन नहीं देना होता है। तो अब ज्यादा का सोचना फोन उठाएं और जुड़ जाएं।

म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट कैसे करे – आसान हिन्दी में बेहतरीन आर्टिकल्स की एक शुरुआती गाइड

म्युचुअल फंड इन्वेस्टमेंट हर एक इन्वेस्टर के बीच काफ़ी लोकप्रिय हैं । जिसका कारण है इससे मिलने वाले फायदे। इसके कईं फायदों में से कुछ सबसे महत्वपूर्ण फ़ायदे नीचे दिए हैं, जो इन्वेस्टर्स को अपनी ओर खींचते है और जिसकी वजह से –

  • इन्वेस्टर्स कितनी भी राशि के साथ शुरुआत कर सकते हैं ( 500 जितना कम भी )
  • इन्वेस्टर्स, अलग-अलग स्टॉक्स और डेट,गोल्ड जैसे इंस्ट्रूमेंट्स में इन्वेस्ट कर सकते हैं
  • हर महीने ऑटोमेटेड इन्वेस्मेंट्स शुरू कर सकते हैं (SIP)
  • डीमैट अकाउंट खोले बिना भी इन्वेस्ट कर सकते हैं

शुरुआती इन्वेस्टर्स के लिए इस म्युचुअल फंड इन्वेस्टमेंट गाइड में हमने कुछ आर्टिकल्स को आपके लिए चुना है। जो म्युचुअल फंड को समझने में और कैसे इन्वेस्ट करना शुरू करें, इसमें आपकी मदद करेंगे। हम सुझाव देंगे कि आप इस पेज को बुकमार्क कर लें ताकि आप इन आर्टिकल्स को अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी पढ़ सकें।

1.म्युचुअल फंड्स की जानकारी

अगर आप म्युचुअल फंड्स और उसके प्रकारों के बारे में पहले से जानते हैं, तो आप सीधे अगले सेक्शन पर जा सकते है । ये 5 आर्टिकल्स, म्युचुअल फंड्स और उसके प्रकारों के बारे में सारी ज़रूरी जानकारी देंगे । हम टैक्स सेविंग फंड्स पर भी एक विशेष आर्टिकल दे रहे हैं।

    और ये कैसे काम करते हैं?
  • म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करना बनाम डायरेक्ट इक्विटी
  • . म्युचुअल फंड्स के फायदे और नुकसान
  • टैक्स सेविंग(ईएलएसएस) फंड्स

2.म्युचुअल फंड्स का एक पोर्टफ़ोलियो बनाना

म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करने का सही तरीका है – सबसे पहले इसका पोर्टफोलियो बनाना । एक पोर्टफोलियो, म्युचुअल फंड का एक समूह होता है। यह आपको अपने इन्वेस्टमेंट के लक्ष्यों को पूरा करने में मदद करेगा। आपका सारा रिटर्न् आपके पूरे पोर्टफोलियो पर टिका होता है, ना कि किसी एक विशेष फंड पर। इस सेक्शन में, हम यह सीखेंगे कि म्युचुअल फंड पोर्टफोलियो कैसे तैयार किया जाता है।

  • पोर्टफोलियो इन्वेस्टिंग क्या है कैसे तैयार किया जाए
  • अपने पोर्टफोलियो के लिए सही म्युचुअल फंड चुनना
  • म्युचुअल फंड को कब बेचें

3.म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करना

कईं शुरुआती इन्वेस्टर्स म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करने की प्रक्रिया को मुश्किल इन्वेस्टमेंट कब शुरू करें? मानकर उसमें इन्वेस्ट करने से कतराते हैं। ये आर्टिकल्स ऐसे ही शुरुआती इन्वेस्टर्स को म्युचुअल फंड को समझने में और इन्वेस्टमेंट शुरू करने में मदद करेंगे।

    और ये म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करने के लिए ज़रूरी क्यों है (SIP) के द्वारा इन्वेस्ट करना

4.कुछ और महत्वपूर्ण जानकारियाँ

म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट करते समय कुछ ज़रूरी बातें है, जिनकी जानकारी हर शुरुआती इन्वेस्टर को होनी चाहिए । इन बातों को समझे बिना इन्वेस्ट करने से, रिटर्न्स पर काफ़ी बुरा असर पड़ सकता है।

  • म्युचुअल फंड्स पर टैक्स
  • म्युचुअल फंड्स से पैसे निकालने पर एग्ज़िट लोड
  • म्युचुअल फंड्स का एक्सपेंस इन्वेस्टमेंट कब शुरू करें? रेशो
  • इन्वेस्टमेंट से जुड़ी भाषा की जानकारी

जहाँ म्युचुअल फंड्स की बात आती है वहाँ आमतौर पर लिस्ट में दिए गए इन शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है । हालाँकि शुरुआती इन्वेस्टर्स को इन सभी शब्दों को याद रखने की ज़रूरत नहीं है, आप किसी भी शब्द को सीखने के लिए, ग्लोसरी (डिक्शनरी) के तौर पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

Where to Invest: म्‍युचुअल फंड या शेयर मार्केट. जानिए, कहां और कैसे करें निवेश की शुरुआत

Where to Invest जब भी पैसे को निवेश करने की बात आती है तो हमारे सामने कई यक्ष-प्रश्न आते हैं। आज हम कुछ ऐसे ही मूलभूत प्रश्नों के उत्तर जानेंगे जिससे निवेश के बारे में फैसले लेने में हमें मदद मिलेगी. तो आइए शुरू करते हैं सवालों-जवाबों की ट्रेडिंग.

नई दिल्ली, आशीष पाण्डेय। जब भी आप अपने पैसे को निवेश करने के बारे में सोचते होंगे, आपके सामने भी कई यक्ष-प्रश्न जरूर आते होंगे। जैसे – म्‍युचुअल फंड या शेयर मार्केट. कहां पैसे लगाना होगा ठीक? कब और कितने दिन के लिए लगाऊं पैसे? किस शेयर में या किस फंड में निवेश करूं? क्या सिर्फ आईपीओ में निवेश करना होगा सही निर्णय? क्या शेयर ट्रेडिंग और निवेश एक ही बात है, या यह दोनों अलग चीजें हैं? निवेश के लिए म्‍युचुअल फंड स्कीम या कोई शेयर कैसे सेलेक्ट करूं? कम से कम कितने शेयरों या कितनी स्कीमों में करना चाहिए निवेश? आज हम कुछ ऐसे ही मूलभूत प्रश्नों का उत्तर जानेंगे, जिससे अपने निवेश के बारे में महत्वपूर्ण फैसले लेने में हमें मदद मिलेगी। तो आइए देखें सवालों के निवेश पर जवाबों के रिटर्न.

कहां लगाएं पैसे – म्‍युचुअल फंड या शेयर मार्केट में.

जैसे ही आप निवेश करने का मन बनाते हैं, तो सबसे पहला और बेसिक प्रश्न जो दिमाग में तुरंत आता है वो यह कि पैसे कहां लगाएं? और इसका जवाब जानने के लिए आपको ईमानदारी से खुद से कुछ और प्रश्न करने होंगे, जैसे – क्या आपको शेयर मार्केट के बारे में पूरी जानकारी है? क्या आप अर्थव्यवस्था के संकेतों को समझते हैं? क्या आप कंपनियों की वार्षिक रिपोर्ट, बैलेंस शीट और प्रॉफिट-लॉस स्टेटमेंट समझ पाते हैं? क्या आप खुद किसी शेयर से संबंधित रिसर्च कर सकते हैं? क्या आप नियमित समय पर अपने निवेश का मूल्यांकन खुद कर सकते हैं? और सबसे महत्वपूर्ण, क्या यह सब रिपोर्ट पढ़ने, मार्केट या किसी स्टॉक संबंधित रिसर्च करने और अपने निवेश को मॉनिटर करने के लिए आपके पास पर्याप्त समय है? यदि इन सवालों के जवाब हां में हैं, तो निश्चित ही आपको शेयर मार्केट में निवेश करना चाहिए, अन्यथा आपके लिए म्‍युचुअल फंड सबसे अच्छा विकल्प है।

किसी भी म्‍युचुअल फंड में हर स्कीम के लिए एक अलग फंड मैनेजर होता है जिसकी अपनी एक पूरी टीम होती है, जो रिसर्च और निवेश से संबंधित संबंधित सभी निर्णय लेती है। नियमित अंतराल पर निवेशक से रिपोर्ट शेयर की जाती है, और इसके अतिरिक्त आप जब चाहें अपने पोर्टफोलियो या निवेश की वास्तविक स्थिति देख सकते हैं।

कैसे लगाएं पैसे - एसआईपी (SIP) या एकमुश्त निवेश.

निवेश से संबंधित एक बहुत ही स्वाभाविक प्रश्न जो दिमाग में आता है, वह यह कि पैसे किस तरह से निवेश किए जाएं? मैंने कई लोगों से सुना है कि उन्होंने SIP में निवेश किया है, जबकि ध्यान देने वाली बात यह है कि SIP कोई फंड या स्कीम नहीं, बल्कि पैसे लगाने का एक तरीका है। आइए, इसे थोड़ा और विस्तार से समझते हैं.

जब हम किसी म्‍युचुअल फंड में निवेश करते हैं तो हमारे सामने मोड चुनने का विकल्प होता है – SIP या एकमुश्त (Lumpsum)। SIP मतलब हर महीने एक निश्चित तिथि पर एक निश्चित राशि आपके बैंक खाते से आपकी चुनी हुई म्‍युचुअल फंड स्कीम में निवेश के लिए कट जाएगी। जबकि, एकमुश्त तरीके में आप जितना भी निवेश करना चाहते हैं वह एक बार में ही भुगतान करना होगा।

SIP के माध्यम से निवेश करना उन लोगों के लिए विशेषकर सुविधाजनक है, जो ज्यादा पैसा नहीं बचा पाते और सैलरी या अन्य किसी तरह की नियमित आय प्राप्त करते हैं। वहीं जो लोग पैसा बचा लेते हैं उन्हें म्‍युचुअल फंड या शेयर मार्केट में एकमुश्त निवेश करने में कोई समस्या नहीं आती।

कब लगाएं पैसे – कैसे जानें कि यह निवेश करने का सही समय है.

निवेश की टाइमिंग एक बहुत ही महत्वपूर्ण फैसला होता है, विशेषकर शेयर मार्केट के लिए। मार्केट या स्टॉक के निचले स्तर पर खरीदना और ऊंचे स्तर पर बेचना (Buying Low & Selling High) ही प्रॉफिट की रेंज घटाता या बढ़ाता है। हालांकि, किसी भी निवेशक या ट्रेडर के लिए हर बार एकदम निचले स्तर पर खरीदना और एकदम ऊंचे स्तर पर बेचना संभव नहीं है। फिर भी निवेश करते समय यह ध्यान जरूर देना होता है कि आप मार्केट या जिस शेयर में निवेश कर रहे हैं वो गिरावट के दौर में तो नहीं है।

म्‍युचुअल फंड में आप टाइमिंग के बारे में निर्णय लेने से बच जाते हैं, क्योंकि आपकी तरफ से यह निर्णय आपके फंड मैनेजर और उनकी एक्सपर्ट टीम लेती है। और यदि आप SIP के माध्यम से निवेश करते हैं तो टाइमिंग का फैक्टर काफी हद तक प्रभावहीन हो जाता है, क्योंकि हर महीने नियत समय पर पैसा कटने से आपके निवेश का खरीद मूल्य औसत स्तर पर आ जाता है। फिर मार्केट चाहे ऊपर रहे या नीचे, उससे कोई विशेष फर्क नहीं पड़ता।

निवेश से संबंधित और भी बहुत से ऐसे प्रश्न हैं जिनका उत्तर हम आगे आने वाले लेखों के माध्यम से जानेंगे. तो इंतजार करिए इस सीरीज़ में अगले आलेख का.

Share market Investment: जानिए़ शेयरों में निवेश करने का अच्छा समय कब है?

कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप शेयर बाजार में कब से निवेश शुरू कर रहे हैं। आपके दिमाग में हमेशा एक सवाल रहता है कि "मुझे कब शेयर खरीदना या बेचना चाहिए?"।

शेयरों में निवेश करने का अच्छा समय कब है?

शेयरों में निवेश करने का अच्छा समय कब है?

हाइलाइट्स

  • शेयर बाजार इन दिनों हर दिन नई उंचाई पर पहुंच रहा है
  • बजट के बाद तो शेयर बाजार में गजब की तेजी दिखी है
  • इन दिनों भी बीएसई सेंसेक्स 51 हजार से उपर चल रहा है
  • ऐसे में हर नया निवेशक जानना चाहता है कि शेयर बाजार में निवेश करने का सही समय क्या है?

फिनोलोजी के फाउंडर एवं सीईओ प्रांजल कामरा का कहना है कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप शेयर बाजार में कब से निवेश शुरू कर रहे हैं। आपके दिमाग में हमेशा एक सवाल रहता है कि "मुझे कब शेयर खरीदना या बेचना चाहिए?"। यदि आप बाजार में नए हैं तो यह बात पूरी तरह से सच साबित होती है। फिर भी, अभी भी कुछ है जो आपको अपने आप से पूछना चाहिए, क्योंकि आप अपनी मेहनत से कमाए गए धन को जोखिम में डाल रहे हैं। सही ज्ञान के साथ, इन्वेस्टमेंट कब शुरू करें? आप पहचान पाएंगे कि आप लाभ वाली स्थिति में हैं या हानि वाली। तो, आगे की हलचल के बिना, आपके स्टॉक खरीदने या बेचने से पहले कुछ बातों पर ध्यान दिया जाना चाहिए:-

रेटिंग: 4.16
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 661