डीमैट खातों को देखे तो ये 3 तरह के होते हैं और इन्हें इंवेस्टर्स की प्रोफाइल के हिसाब से तैयार किया जाता हैं. डीमैट खातों का मैनेजमेंट आपकी ब्रोकिंग फर्म ही करेगी. इन तीन कितने डीमैट खाते हो सकते हैं तरह के डीमैट खातों का नाम जानें-

डीमैट खाते 10 करोड़ के पार | अगस्त 2022 में खुले सबसे ज्यादा डिमैट खाते?

डीमैट खाता क्या है,डीमैट खातों की संख्या क्यों बढ़ रही है,सी.डी.एस.एल. के पास में कितने डीमैट खाते हैं, एन. एस. डी. एल. के पास में कितने डीमैट खाते हैं,डीमैट खातों की संख्या बढ़ना क्या संकेत करता है,डीमैट खाते अपडेट,डीमैट खाते लेटेस्ट न्यूज़.

सी.डी.एस.एल. और एन.एस.डी.एल. द्वारा जारी आंकड़ों में यह बात निकलकर सामने आई है कि देश में पहली बार अगस्त 2022 में डीमैट खातों की संख्या 10 करोड़ के जादुई आंकड़े को पार कर गई है. इनके मुताबिक गत माह यानी अगस्त 2022 में 22 लाख डीमैट खाते खोले गए हैं जोकि पिछले 4 महीनों का सबसे अधिक आंकड़ा दर्शाता है.इन 22 लाख डिमैट खातों की संख्या में खुदरा/रीटेल यानि छोटे निवेशकों का योगदान सर्वाधिक है. डीमैट खातों की संख्या में इस अप्रत्याशित तेजी से सहज अंदाजा लगाया जा सकता है की देश में शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है.

डीमैट खाता क्या है

जब शेयर या सिक्योरिटी निवेशकों द्वारा खरीदे जाते हैं तो यह शेयर या सिक्योरिटी इलेक्ट्रॉनिक रूप से जिन खातों में रखे जाते हैं उन्हें डीमैट खाता कहा जाता है.स्टॉक एक्सचेंज जैसे कि निफ़्टी या सेंसेक्स या फिर कोई भी एक्सचेंज हो अगर आपको कोई स्टॉक खरीदना या बेचना है तो डीमैट खाता होना अत्यंत जरूरी है.डीमेट अकाउंट, डिमैटेरियलाइजेशन अकाउंट का संक्षिप्त नाम है.आजकल कई स्टॉक ब्रोकर आपको अपने म्युचुअल फंड्स को डीमैट फॉर्मेट में रखने की सुविधा भी प्रदान करते हैं.

डिमैट अकाउंट खोलने की प्रवृत्ति में इधर तेजी से इजाफा हुआ है जिसके प्रमुख कारण निम्नलिखित हो सकते हैं-

  • जैसा कि कुछ दिनों पहले जेरोधा के फाउंडर नितिन कामत जी ने बताया था की आधार से डिमैट अकाउंट का खोला जाना ब्रोकिंग के क्षेत्र में क्रांतिकारी सिद्ध हुआ और इस प्रक्रिया के आने से लोगों ने डिमैट अकाउंट तेजी से खुलवाए.
  • अब डिमैट खाते खुलवाने के लिए आपको किसी ऑफिस जाने की जरूरत नहीं पड़ती है यह घर बैठे 15 से 20 मिनट में आप अपने मोबाइल या लैपटॉप के द्वारा आसानी से ओपन कर सकते हैं.यह भी डिमैट खातों की संख्या बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुआ.
  • करोना कॉल में काफी लोगों को अपनी नौकरियों से हाथ धोना पड़ा था, ऐसे लोगों ने नए अवसरों की तलाश में स्टॉक मार्केट का रुख किया इस कारण भी डिमैट अकाउंट की संख्या में वृद्धि देखने को मिलती है.
  • भारतीय स्टॉक मार्केट में डिस्काउंट ब्रोकरों के आ जाने से प्रतियोगिता बहुत बढ़ गई है, दिन प्रतिदिन यह नए डिस्काउंट ब्रोकर नई तकनीकों के साथ और नए ऑफर्स के साथ आते रहते हैं , डिमैट अकाउंट की संख्या बढ़ने के पीछे यह भी एक प्रमुख कारण है.
  • बचत के माध्यमों जैसे कि एफ़.डी.; पी.पी.एफ. इत्यादि पर ब्याज की दर निरंतर कम होती जा रही है और महंगाई दर नित नई ऊंचाइयां छू रही है इस परिस्थिति में लोगों को ज्यादा रिटर्न पाने के लिए एक बेहतर माध्यम की तलाश थी और यह खोज डिमैट अकाउंट पर जाकर रूकती है जहां पर निवेशक ज्यादा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं.बचतों/सेविंग्स पर कम ब्याज दर भी डिमैट खातों की संख्या बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है.

सी.डी.एस.एल. के पास में कितने डीमैट खाते हैं

सार्वजनिक आंकड़ों के अनुसार सी.डी.एस.एल. जोकि भारत की दो डिपॉजिटरीज में से एक है,के पास 7.16 करोड़ डीमैट खाते हैं.

एन.एस.डी.एल. जोकि भारत की दूसरी डिपॉजिटरीज है,के पास 7.16 करोड़ डीमैट खाते हैं.

डीमैट खातों की संख्या बढ़ना क्या संकेत करता है

भारतीय बाजार में डीमैट खातों की बढ़ती संख्या हर्ष का विषय है क्योंकि इनमें से अधिकतर डीमैट खाते खुदरा निवेशकों यानी रिटेल निवेशकों की बाजार/स्टॉक मार्केट में भागीदारी बढ़ने का संकेत है. खुदरा निवेशकों के बढ़ने से फायदा यह होगा की हमारी निर्भरता विदेशी निवेशकों पर घटेगी और ऐसा होने से बाजार में तेज उतार-चढ़ाव देखने को कम मिलेगा.

बढ़ती तकनीकी और तकनीकी के विस्तार के कारण स्टॉक मार्केट में लोगों द्वारा भारत के कोने-कोने से निवेश किया जा रहा हैं, और यह संख्या क्रमबद्ध तरीके से लगातार बढ़ती ही जा रही है. आने वाले समय में जब बिजली के साथ-साथ नेटवर्क का विस्तार भी दूर तलक हो जाएगा तब डिमैट अकाउंट की यह संख्या और तेजी से बढ़ेगी.

आज की तारीख लोगों में निवेश को लेकर सोचने का नजरिया और जागरूकता मल्टीमीडिया के उपयोग के कारण लगातार बढ़ता जा रही है, अभी तक हमारे देश में जनसंख्या के प्रतिशत के हिसाब से स्टॉक मार्केट में निवेश करने वालों की संख्या काफी कम कहीं जा सकती है,इस संख्या के भविष्य में बढ़ने की अपार संभावनाएं प्रतीत होती हैं,और जब ऐसा होगा तो यह भारत के निर्माण एवं भविष्य के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा.कितने डीमैट खाते हो सकते हैं

डीमैट अकाउंट - अर्थ, प्रकार, लाभ, डीमैट खाता ऑनलाइन कैसे खोलें

डीमैट खाता एक ऐसा खाता है जो निवेशकों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में शेयरों या प्रतिभूतियों को रखने की अनुमति देता है। खरीदे गए शेयरों को डीमैट खाते में जमा किया जाता है और इसी तरह बिक्री के समय, प्रतिभूतियों को खाते से डेबिट किया जाता है। इस खाते का उपयोग शेयरों, ईटीएफ, म्यूचुअल फंड, बॉन्ड, सरकारी बॉन्ड, आदि जैसे निवेश का एक विस्तृत विकल्प रखने के लिए किया जाता है।

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडों का न्यायिक उपयोग करने के लिए 1996 में शेयरों के डीमैटरियलाइजेशन की प्रक्रिया शुरू की गई थी। डीमैटरियलाइज्ड या डीमैट खाता इलेक्ट्रॉनिक मोड में शेयरों को रखने में मदद करता है और लोगों को सुरक्षित तरीके से बिक्री के मामले में शेयरों को खरीदने और आय एकत्र करने में मदद करता है।

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता एक प्रकार का डीमैट खाता है जो उन निवेशकों या व्यापारियों के लिए उपयुक्त है जो अनिवासी भारतीय (NRI) हैं। इस प्रकार का डीमैट खाता विदेशों में पूंजी स्थानांतरित करने की अनुमति देता है। हालांकि, गैर-निवासी एक्सटर्नल (NRE) बैक खाते की आवश्यकता है।

गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता एक प्रकार का डीमैट खाता है जो फिर से अनिवासी भारतीयों (NRI) के लिए उपयुक्त है, लेकिन विदेशों में धन का हस्तांतरण नहीं हो सकता है। इस प्रकार के डीमैट खाते के साथ संबद्ध होने के लिए एक अनिवासी आयुध (NRO) बैंक खाते की आवश्यकता होती है।

डीमैट खाते के कई लाभ हैं जो नीचे उल्लिखित हैं:

1. सुगमता

डीमैट खाते नेट बैंकिंग के माध्यम से निवेश और लेनदेन के स्टेटमेंट की आसान पहुंच प्रदान करते हैं। डीमैट खाते के माध्यम से लेनदेन और निवेश का विवरण आसानी से ट्रैक किया जा सकता है।

ऑनलाइन डीमैट खाता कैसे खोलें?

डीमैट खाता खोलना, एक बहुत ही सरल और परेशानी रहित प्रक्रिया है। खाता खोलने के चरण नीचे दिए गए हैं:

1. डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (कितने डीमैट खाते हो सकते हैं DP) सेलेक्ट करें।

2. आवश्यक विवरण के साथ खाता खोलने का फॉर्म भरें और इसके साथ आवश्यक दस्तावेज जमा करें। डीमैट खाता खोलने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है।

3. फॉर्म जमा करने के बाद, नियमों और विनियमों की प्रतिलिपि, समझौते की शर्तें, शुल्क जमाकर्ता प्रतिभागी द्वारा प्रदान किए जाएंगे।

4. इन-पर्सन सत्यापन भी अनिवार्य है और इसलिए, डीपी अधिकारी कर्मचारियों के एक सदस्य को खाता खोलने के रूप में प्रदान किए गए विवरण को सत्यापित करने के लिए व्यक्ति से संपर्क करना होगा।

5. सत्यापन के बाद, डीपी स्टाफ का सदस्य एक खाता संख्या या ग्राहक आईडी देगा। इन विवरणों को ऑनलाइन भी चेक किया जा सकता है।

6. डिमैट खाते के लिए एक वार्षिक रखरखाव शुल्क भी लिया जाता है जो खाता लेनदेन शुल्क को कवर करता है। ये शुल्क डीपी द्वारा निर्धारित संरचना के अनुसार लागू होते हैं।

Demat Account: जानें कितनी तरह के होते हैं डीमैट अकाउंट, शेयर बाजार में करनी है एंट्री तो खुलवाना होगा खाता

By: ABP Live | Updated at : 01 Dec 2021 12:03 PM (IST)

Edited By: Meenakshi

डीमैट खाते के प्रकार

Demat Account: घरेलू शेयर बाजार में इस साल काफी अच्छी तेजी दर्ज की गई है, हाल फिलहाल की बात करें तो शेयर बाजार में बीते हफ्ते भारी गिरावट आई लेकिन आज स्टॉक मार्केट में जोरदार बढ़त देखी जा रही है. साल 2021 की तेजी ने ऐसे निवेशकों का ध्यान भी शेयर बाजार की तरफ खींचा है जो शेयर बाजार में इंवेस्टमेंट करने से ये कहकर बचते हैं कि 'शेयर बाजार में पैसा लगाना अपने बस की बात नहीं'. इसीलिए हम आपको ये बता रहे हैं कि स्टॉक मार्केट में पैसा लगाना इतना भी मुश्किल नहीं है और थोड़ी रिसर्च और एक्सपर्ट्स की राय लेकर आप इसमें निवेश के लिए एंट्री कर सकते हैं. शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए आपको डीमैट खाते की जरूरत पड़ेगी. यहां हम आपको डीमैट खाते के बारे में अहम जानकारी दे रहे हैं

Demat Account: जानें कितनी तरह के होते हैं डीमैट अकाउंट, शेयर बाजार में करनी है एंट्री तो खुलवाना होगा खाता

By: ABP Live | Updated at : 01 Dec 2021 12:03 PM (IST)

Edited By: Meenakshi

डीमैट खाते के प्रकार

Demat Account: घरेलू शेयर बाजार में इस साल काफी अच्छी तेजी दर्ज की गई है, हाल फिलहाल की बात करें तो शेयर बाजार में बीते हफ्ते भारी गिरावट आई लेकिन आज स्टॉक मार्केट में जोरदार बढ़त देखी जा कितने डीमैट खाते हो सकते हैं रही है. साल 2021 की तेजी ने ऐसे निवेशकों का ध्यान भी शेयर बाजार की तरफ खींचा है जो शेयर बाजार में इंवेस्टमेंट करने से ये कहकर बचते हैं कि 'शेयर बाजार में पैसा लगाना अपने बस की बात नहीं'. इसीलिए हम आपको ये बता रहे हैं कि स्टॉक मार्केट में पैसा लगाना इतना भी मुश्किल नहीं है और थोड़ी रिसर्च और एक्सपर्ट्स की राय लेकर आप इसमें निवेश के लिए एंट्री कर सकते हैं. शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए आपको डीमैट खाते की जरूरत पड़ेगी. यहां हम आपको डीमैट खाते के बारे में अहम जानकारी दे रहे हैं

शेयर बाजार में बहार से बढ़ते जा रहे निवेशक, 5 करोड़ से ज्यादा हुए डीमैट अकाउंट

 शेयर बाजार में निवेश करने वालों की बढ़ रही संख्या (फाइल फोटो: Getty Images)

  • नई दिल्ली ,
  • 15 फरवरी 2021,
  • (अपडेटेड 15 फरवरी 2021, 1:40 PM IST)
  • कोरोना काल में भी शेयर बाजार में तेजी
  • तेजी से बढ़ते शेयर बाजार के निवेशक
  • डीमैट अकाउंट की संख्या 5 करोड़ पार

कोरोना काल में भी शेयर बाजारों के नित नई ऊंचाइयां छूने से बहुत से लोग इनमें निवेश के प्रति आकर्ष‍ित हुए हैं. इसकी वजह से देश में डीमैट खाताधारकों की संख्या 5 करोड़ के पार हो गई है.

देश के सबसे बड़े डिपॉजिटरी सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (CDSL) में पिछले महीने डीमैट खाताधारकों की संख्या 3 करोड़ तक पहुंच गई. अप्रैल 2020 के लॉकडाउन के बाद से ही डीमैट खाताधारकों की संख्या तेजी से बढ़ी है.

रेटिंग: 4.45
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 358